प्रसह्य मणिमुद्धरेन्‍मकरवक्‍त्रदन्‍ष्‍ट्रान्‍तरात् .... नीतिशतकम् ।


प्रसह्य मणिमुद्धरेन्‍मकरवक्‍त्रदन्‍ष्‍ट्रान्‍तरात् । 
समुद्रमपि संतरेत् प्रचलदूर्मिमाला  कुलम् ।
भुजंगमपि कोपितं शिरसि पुष्‍पवद्धारयेत् । 
न तु प्रतिनिविष्‍टमूर्खजन चित्‍तमाराधयेत् ।।4।। 

व्‍याख्‍या - कदाचित् मकरमुखात् कश्चित् बलपूर्वकं मणिनिष्‍कासनं कुर्यात् , कदाचित् महोर्मिमालायुक्‍तं समुद्रम् अपि कश्चित् सरलतया प्‍लवेत्, कदाचित् रुष्‍टं महाविषधरमपि स्‍वशिरसि पुष्‍पवत् धारयेत् किन्‍तु दुराग्रही-मूर्खस्‍य चित्‍तप्रसाद: कदाचिदपि न सम्‍भाव्‍यते ।

हिन्‍दी - सम्‍भव है मगरमच्‍छ के दातों के मध्‍य फंसे हुए मणि को बलपूर्वक निकाला जा सके, महातरंगों से युक्‍त समुद्र को भी तैर कर पार किया जा सके तथा क्रोधित हुए महाविषधारी नाग को भी सिर पर पुष्‍प की भाँति धारण किया जा सके  किन्‍तु किसी हठी, दुराग्रही-मूर्ख व्‍यक्ति को समझा सकना सर्वथा असम्‍भव है ।

छन्‍द: - पृथ्‍वी छन्‍द
छन्‍दलक्षणम् - जसौ जसयलावसुग्रहयतिश्‍चपृथ्‍वीगुरु: ।

हिन्‍दी छन्‍दानुवाद - 
सम्‍भव है कभी कोई मकर के मुख मध्‍य फंसी मणि को भी हाथ डाल के निकाल ले ।
बादलों को छूती हुई लहरों के बीच जाके उदधि में डूबे नहीं आप को सम्‍हाल ले ।
क्रोध से हों आंखे लाल-लाल जिस व्‍याल की उसे भी फूल की तरह उठाए निज भाल ले ।
सम्‍भव है सब पर मूर्ख दुराग्रही को मना सके न कोई चाहे फोड ही कपाल ले ।।

इति
अदादिगणः अपादानकारकम् अलंकार: अष्टाध्यायी अस्‍माकं महापुरुषा: आत्‍मनेपदी आरण्‍यकम् ईशावास्‍योपनिषद् उदाहरणम् उपनिषद् उभयपदी‚ एचटीएमएल कर्मवाच्‍यम् कवि आर्त कारक प्रकरणम् काव्यप्रकाशः कृदन्तम् गीतानि चतुर्थी विभक्ति: चित्राणि तकनीकि: तर्कसंग्रह तीर्थस्थानम् तृतीया विभक्ति: दशरूपकम् द्वितीया विभक्ति: धातुरूपावली धार्मिकव्रतानि नाट्यशब्‍दा: निबन्धः नीतिशतक पंचतन्‍त्रम् पंचमी विभक्ति: परस्‍मैपदी पीहु शुक्‍ला प्रथमा विभक्ति: ब्राह्मणम् भाववाच्यम् भ्‍वादिगण: मंगलाचरणम् रघुवंशमहाकाव्यम् राष्ट्रियसंस्‍कृतसंस्‍थानस्‍य संस्‍कृतप्रशिक्षणकक्ष्‍या लघुकथा लघुप्रश्नाः लौकिकसंधिः वार्ता: वार्तिकम् विभक्ति उदाहरणम् विभक्ति प्रकरणम् वेदेषु विज्ञानम् वैदिक विसर्ग संधिः वैदिक व्यञ्जन संधिः वैदिक स्‍वर सन्धि: वैदिकसन्धिः वैदिकसाहित्‍यम् व्याकरणम् शब्‍दकोष: श्रृंगीऋषि आश्रम षष्‍ठी विभक्ति: संस्कृत-सुभाषितानि संस्‍कृतईपुस्‍तकम् संस्‍कृतगणना संस्‍कृतजगत् ईपत्रिका संस्‍कृतप्रतियोगिता: संस्‍कृतप्रशिक्षणकक्ष्‍या संस्‍कृतप्रशिक्षणम् संस्‍कृतलेखनप्रशिक्षणकक्ष्‍या सप्‍तमी विभक्ति: समासप्रकरणम् सम्‍प्रदान कारक सांख्यकारिका साहित्‍यम् सूचना: स्‍तुति: स्‍वरसन्धि: