सामान्‍यजीवने प्रयोगाय कानिचन् दैनिकवाक्‍यानि- द्वितीय: अभ्‍यास:

पूर्वतन क्रमेण एव पुन: अत्र सन्ति कानिचन नित्‍यप्रयोगाय वाक्‍यानि 
पूर्वतनं ज्ञातुम् अत्र सामान्‍यजीवने प्रयोगाय कानिचन् दैनिकवाक्‍यानि- प्रथम: अभ्‍यास: स्‍पृशन्‍तु।।
भवतां विचाराणां स्‍वागतम् अस्ति। 

             भवदीय: आनन्‍द:

1-मम नाम........                     मेरा नाम......... !
2-एष: मम मित्रं                        यह मेरा मित्र !
3-एषा मम सखी                      यह मेरी सखी !
4-भवान्
/ भवती कस्‍यां कक्षायां           प‍ठति  आप पु0/ स्‍त्री0 किस कक्षा में पढते हैं !

5-अहं पंचम कक्षायां पठामि               मैं पांचवी कक्षा में पढता
/ पढती हूं !
 

6-भवत: ग्राम:/ भवान् कुत्रत्‍य:?        आप कहां के रहने वाले हैं ?
 

7-अहं........ग्रामस्‍य/ नगरस्‍य निवासी अस्मि      मैं........ग्राम/ नगर का निवासी हूं!
 

8-कुत: आगच्‍छति?                        आप कहां से आ रहे हैं ?

9-विद्यालयत:/ गृहत: आगच्‍छामि     स्‍कूल से/ घर से आ रहा/ रही हूं (त: - से)
 

10-कुत्र गच्‍छति ?                          आप कहां जा रहे हैं ?

11-देवालयं/ विद्यालयं/ कार्यालयं गच्‍छामि         मन्दिर/ विद्यालय/ कार्यालय जा रहा/ रही हूं!

12-स्‍वल्‍पं                                    थोडा- बहुत/ जरा सा !
13-अहं न जानामि                        मै नहीं जानता/ जानती हूं !

14-किमर्थं न भवति ?                  क्‍यों नही होता है ?
15-अथ किम्                             और क्‍या !
16-नैव खलु                              नहीं तो !
17-आगच्‍छतु                           आइये/ पधारिये !
18-उपविशतु                             बैठिये !
19-ज्ञातम्                                समझे !
20- कथम् आसीत् ?                 कैसा था ?


संस्‍कृतं वदतु पुस्‍तकात साभार स्‍वीकृत:।।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

अव्यय पदानि ।।

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

फलानि ।।