सामान्‍यजीवने प्रयोगाय कानिचन् दैनिकवाक्‍यानि




अत्र कानिचन् दैनिक प्रयोगाय वाक्‍यानि सन्ति। अवगमने सुविधा भवेत अत: एतेषाम हिन्‍दी अनुवाद: अपि दीयते।

संस्‍कृतं वदतु-                                                       संस्‍कृत बोलिये
नमो नम:-                                                            नमस्‍कार
नमस्‍कार:-                                                           नमस्‍कार
प्रणाम:-                                                                प्रणाम
धन्‍यवाद:-                                                             धन्‍यवाद
स्‍वागतम्-                                                            स्‍वागत है
क्षम्‍यताम्-                                                           क्षमा कीजिये
चिन्‍ता मास्‍तु-                        कोई बात नहीं,चिन्‍ता मत कीजिये
कृपया-                                                                कृपा करके
पुन: मिलाम:-                                                       फिर मिलेंगे
अस्‍तु-                                                                  ठीक है
श्रीमन्, मान्‍यवर-                              श्रीमान, मान्‍यवर, महोदय
मान्‍ये-                                                                श्रीमती जी
उत्‍तमम्, शोभनम्-                                              बहुत अच्‍छा
भवत: नाम किम्-                            आपका क्‍या नाम है -पुलिंग
भवत्‍या: नाम किम्-                        आपका क्‍या नाम है- स्‍त्रीलिंग
मम नाम आनन्‍द:                                                मेरा नाम आनन्‍द है


इति

एतानि सन्ति कानिचन दैनिक वाक्‍यानि
येषाम् प्रयोग: वयं प्रतिदिनं बहुवारं कुर्म:।
अत: अद्य आरभ्‍य एव एतेषां दैनिक अभ्‍यास: करणीय:।
अग्रिम दिवसे अन्‍यानि कानिचन् वाक्‍यानि प्रेषयिष्‍यामि।
तावत् पर्यन्‍तं नमोनम: ।

साभार संस्‍कृतं वदतु पुस्‍तकात


भवदीय: आनन्‍द:

टिप्पणियाँ

  1. aap ne meri vinti suni aapka hardik dnyavaad age bhi is dev bhasha ke dainik jivan ke prayogon ke bare main bahut kuch sikhane milega aisi aasha hai
    koti koti dhanywaad

    उत्तर देंहटाएं
  2. महोदय मुझे हर्ष है कि आपकी संस्‍कृत भाषा में इतनी श्रद्धा है। मेरा एक निवेदन है आशा है अस्‍वीकार नहीं करेंगे।

    आप अपने ब्‍लाग का नाम परिवर्तित कर लें क्‍यूकि शास्‍त्रोक्ति है कि अयोग्‍य का सम्‍मान और सुयोग्‍य का अपमान- ये दोनो ही बातें अनुचित हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahut achchha laga aapka sanskrit prayas dekh kar.....kaafi iksha thi ki sanskrit ka koi blog shuru karun magar sanskrit jaanta hi nahi tha tab socha kisi sahi ko prerit karun....magar afsos ki jin sathiyon ko kaha wo darshan sunane lage
    magar unhone na likhna tha
    ab aapka blog nazar aaya to khushi huyi
    chhote chhote vakyon ko jis tarah is post me likha gaya hai agar waisa hi likhen to mujhe bhi faayda hoga aur bhi tamam sathiyon ko jo sanskrit sikhna chahte hain

    उत्तर देंहटाएं
  4. अरे वाह, आपके ये दैनकी वाक्यों का प्रयास तो बहुत ही अच्छा है ऐसे में कम से कम हम लोग छोटे -छोटे वाक्यों का संस्कृत में प्रयोग तो कर सकेंगे ... जो भी हो आप बहुत ही कमाल के हो आपने तो ऐसे भाषा पर इतनी अच्छी पकड़ रखी है की दिल करता है हम भी ऐसे ही भाषा को अपनी पकड़ में रखे ...पर मजबूर है स्कूल में जो पड़ा था वह पड़ा पर उसके बाद कुछ नहीं... आप ऐसा ही लिखते रहे हम सब आपके साथ है

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

अव्यय पदानि ।।

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

फलानि ।।