दैनिकवाक्‍यानि- :तृतीय: अभ्‍यास:

कानिचन् दैनिकवाक्‍यानि-प्रथम: अभ्‍यास:
कानिचन् दैनिकवाक्‍यानि- द्वितीय: अभ्‍यास:


कार्यक्रम: कदा ?            कार्यक्रम कब है  ?
अद्य न , स्‍व:                 आज नहीं कल (आने वाला)
तद् ह्य: एव समाप्‍तम्     वह कल (बीता हुआ) ही समाप्‍त हुआ ।
इदानीम् एव ?
               अभी  ?
आम्,          
                  हाँ
प्राप्‍तं किम् ?                 मिला क्‍या ?
कस्मिन् समये ?
            कितने बजे  ?
पंच (वादने)                  पांच (बजे)
आवश्‍यकं नासीत्
      नहीं चाहिये था ।
महान् आनन्‍द:            बहुत अच्‍छा, बहुत खुशी की बात है
प्रयत्‍नं करोमि   
            प्रयास करूंगा\करूंगी
न शक्‍यते भो:  
             नहीं हो सकता
तथा न वदतु                   ऐसा मत कहिये
कदा ददाति ?                   कब दोगे ?
अहं किं करवाणि ?              मैं क्‍या करूँ ?


क्रमश:,,,,,,,,,,,,,,,

टिप्पणियाँ

  1. विवेकानंद जी,
    कृपा करके संस्कृत भाषा का शुरू से ज्ञान प्रसारित करें ताकि मानवता का कल्याण हो. एक एक पाठ्य दें.. नियम कायदे सहित

    उत्तर देंहटाएं
  2. आनंद जी, आप का प्रयास बेहद ही सराहनीय है... संस्कृत हम भारतीयों की एवं समस्त विश्व की प्राचीनतम भाषा मानी जाती रही है, परन्तु जब मैं "शास्त्र-शब्द व्याख्या"http://shastra-shabd-vyakhya.blogspot.com/ पर प्रकाशित शब्द व्याख्यान पढ़ता हूँ तो गहरी शंका से घिर जाता हूँ, कृपया प्रकाश डालें...

    [मेरा प्रश्न शास्त्र-शब्द व्याख्या ब्लॉग' की निंदा करना कतई नहीं परन्तु वहां दिए गए शब्द व्याख्यान के आधार से है.]

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

फलानि ।।

संस्‍कृतव्‍याकरणम् (समासप्रकरणम्)

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .