भ्रष्टाचार छद्म निरोधनं !!



केंद्रसर्वकारस्य कार्यलयानां भ्रष्टाचारनिरोधनार्थं केवलं सप्ताहपर्यन्तं एव   विविधि कार्यक्रमान् दर्शिता: ।
     अस्मिन् अवसरे विविधिबक्तब्यान् घोषिता: च ।
अत्र एकः प्रश्नः  विचारणीयः .....
किं वयं स्वतंत्रभारतस्य नागरिका: भ्रष्‍टाचारनिरोधनार्थं केवलं एकसप्ताहपर्यन्तम् एव प्रयासं कुर्म:, इत्‍येव अलं किल ??
किं वयं अनेन् अवसरे अस्य संपादनार्थं जीवनपर्यन्‍तम् एष: संकल्प: न धारयाम: ??

टिप्पणियाँ

  1. बहुत सुन्दर और विचारणीय प्रस्तुति...एक सप्ताह के बाद हम भूल जाते हैं की भ्रष्टाचार हमारी जड़ों को खोखला कर रहा है..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  2. शायद हमारी नियति ही यही बन चुकी है महोदय ।
    आपकी विचारणीय प्रस्‍तुति हेतु धन्‍यवाद

    आगे भी ऐसी ही प्रस्‍तुति की अपेक्षा करते हैं ।।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

अव्यय पदानि ।।

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

भू (होना) धातु: - परस्‍मैपदी