आदर्श देशः

न मे स्तेनो जनपदे, न कदर्थो न मद्यपः 
नानहिताग्नि नो विद्वान्न स्वैरी स्वैरिणी कुतः 

केकय नरेश अश्वपति उवाच

टिप्पणियाँ

  1. मेरे देश मे न कोई चोर है,
    न कृपण और दरिद्र है और
    न ही कोई शराबी है.
    न कोई 'अग्निहोत्र न करने वाला' है और
    न ही मूर्ख है,
    जब कोई व्यभिचारी ही नहीं है तो
    व्यभिचारिणी होने का तो प्रश्न ही नहीं उठता.

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रतुल जी बहुत बढ़िया. सही हैं आप अगर व्यभिचारी ही नहीं होंगे तो व्यभिचारिणी कहाँ से होंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह भइया
    क्‍या अद्भुत श्‍लोक प्रस्‍तुत किया है आपने
    हमारा प्राचीन भारत कितना संस्‍कारित था ।
    आज की दशा पर मन खिन्‍न हो जाता है ।।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

फलानि ।।

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

पुष्पाणां नामानि II