क्षपणक कथांश

शीलं शौचं क्षान्तिर्दाक्षिण्यं मधुरता कुले जन्म. 
न विराजन्ति हि सर्वे वित्तविहीनस्य पुरुषस्य. 

अन्वय: 
शीलं, शौचं, क्षान्तिः, दाक्षिण्यं, मधुरता, कुले जन्म च (एते) सर्वे हि वित्तविहीनस्य पुरुषस्य न विराजन्ति. 

टिप्पणियाँ

  1. शील, शुचिता, क्षमा, उदारता, मधुरभाषिता, उत्तम कुल में जन्म — ये सभी गुण निर्धन पुरुष को शोभा नहीं देते. अर्थात निर्धन मनुष्य में इनकी कोई मान्यता नहीं.
    ____________
    यदि कोई स्वयं को निर्धन [अभावग्रस्त] मानता है तो उसे उपर्युक्त गुणों की कोई आवश्यकता नहीं. उसका शुचितावादी सोच लेकर जीना व्यर्थ है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सत्‍य का बोध कराती सूक्ति
    उत्‍तम प्रस्‍तुति के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

शरीरस्‍य अंगानि

अव्यय पदानि ।।