पवनतनय स्तुति:



अतुलितबलधामं हेमशैलाभदेहम्
दनुजवनकृशानुं ज्ञानिनामग्रगण्यम् ।
सकलगुणनिधानं वानराणामधीशम् 
रघुपतिप्रियभक्तं वातजातं नमामि ।।



टिप्पणियाँ

  1. संजीव जी
    आज बहुत शुभ दिन आप ने श्रीहनुमान जी की ये पावन स्‍तुति प्रस्‍तुत की

    आज हमारा मंगलवार व्रत भी है ।
    श्री हनुमान जी की स्‍तुति पढकर मन प्रसन्‍न हो गया ।

    आप का कोटिश: धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

फलानि ।।

अव्यय पदानि ।।

शकुन्‍त: (पक्षिण:) ।।

क्रीड् (खेलना) धातु: - परस्‍मैपदी