सुभाषितानि - रामदास सोनी महोदयेन संकलितानि ।।




1- शैले शैले न माणिक्यं मौक्तिकं न गजे गजे
साधवो न हि सर्वत्र चन्दनं न वने वने ।। (हितोपदेश)


2- एकवर्णं यथा दुग्धं भिन्नवर्णासु धेनुषु |
तथैव धर्मवैचित्र्यं तत्त्वमेकं परं स्मॄतम् ।।

3- सर्वं परवशं दु:खं सर्वम् आत्मवशं सुखम् |
एतद् विद्यात् समासेन लक्षणं सुखदु:खयो: ।।

4- अलसस्य कुतो विद्या अविद्यस्य कुतो धनम् |
अधनस्य कुतो मित्रम् अमित्रस्य कुतो सुखम् ।।

5- आकाशात् पतितं तोयं यथा गच्छति सागरम् |
सर्वदेवनमस्कार: केशवं प्रति गच्छति ।।

6- नीरक्षीरविवेके हंस आलस्यम् त्वम् एव तनुषे चेत् |
विश्वस्मिन् अधुना अन्य: कुलव्रतं पालयिष्यति क: ।।

7- पापं प्रज्ञा नाशयति क्रियमाणं पुन: पुन: |
नष्टप्रज्ञ: पापमेव नित्यमारभते नर: ।। ( विदुरनीति )




8- अल्पानामपि वस्तूनां संहति: कार्यसाधिका
तॄणैर्गुणत्वमापन्नैर् बध्यन्ते मत्तदन्तिन: ।।



एतानि सुभाषितानि श्रीरामदास वर्येण संकलितानि सन्ति । तेन एतेषां सुभाषितानां हिन्‍दीअर्थ: अपि दत्‍त: अस्ति यत् टिप्‍पणीपेटिकायां प्रकाश्‍यते ।।

टिप्पणियाँ

  1. 1- हर एक पर्वतपर माणिक नहीं होते, , हर एक हाथी में मोती नहीं मिलते |साधु
    सर्वत्र नहीं होते , हर एक वनमें चंदन नहीं होता | दुनिया में अच्छी
    चीजें बडी तादात में नहीं मिलती |


    2- जिस प्रकार विविध रंग की गाय एकही रंग का (सफेद) दूध देती है, उसी प्रकार
    विविध धर्मपंथ एकही तत्त्व की सीख देते है


    3- जो चीजें अपने अधिकार में नही है वह सब दु:ख है तथा जो चीज अपने अधिकार
    में है वह सब सुख है | संक्षेप में सुख और दु:ख के यह लक्षण है |


    4- आलसी मनुष्य को ज्ञान कैसे प्राप्त होगा ? यदि ज्ञान नही तो धन नही मिलेगा |
    यदि धन नही है तो अपना मित्र कौन बनेगा ? और मित्र नही तो सुख का अनुभव
    कैसे मिलेगा?


    5- जिस प्रकार आकाश से गिरा जल विविध नदियों के माध्यम से अंतिमत: सागर से
    जा मिलता है उसी प्रकार सभी देवताओं को किया हुवा नमन एक ही परमेश्वर को
    प्राप्त होता है |



    6- अरे हंस यदि तुम ही पानी तथा दूध भिन्न करना छोड दोगे तो दूसरा कौन
    तूम्हारा यह कुलव्रत का पालन कर सकता है ? यदि बुद्धिमान तथा कुशल मनुष्य
    ही अपना कर्तव्य करना छोड दे तो दूसरा कौन वह काम कर सकता है ?

    7- बार बार पाप करनेसे मनुष्य की विवेकबुद्धी नष्ट होती है और जिसकी
    विवेकबुद्धी नष्ट हो चुकी हो , ऐसी व्यक्ति हमेशा पाप ही करती है |


    8- छोटी¬-छोटी वस्तूए एकत्र करनेसे बडे काम भी हो सकते हैं| घास से बनायी
    हुर्इ डोरी से मत्त हाथी बाधा जा सकता है|

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीय रामदास जी
    इतनी सुन्‍दर सुभाषित सुक्तियाँ प्रेषित करने हेतु धन्‍यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या पहला सुभाषित चाणक्य का लिखा नहीं है?

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर! अति उत्तम कोटि के सुभाषित हैं.
    धन्‍यवाद.

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

अव्यय पदानि ।।

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

फलानि ।।