एकं सुचिन्‍तनम् ।।


धनाभावे विषमकाले मृत्योर्मुखे च  धैर्यं न त्यजेत् ।
विवाद समये विपत्तिकाले च साहसं न त्यजेत् ।।


टिप्पणियाँ

  1. अत्‍युत्‍तमं चिन्‍तनं महोदय

    एतेषु कालेषु प्रायस: जनानां धैर्यं गच्‍छति एव

    उत्तर देंहटाएं
  2. ..

    @ धन की कमी के समय, विपरीत स्थितियों में और मृत्यु के मुख यानी बीमारी के समय ..... धैर्य नहीं त्यागना चाहिए.
    झगड़े के समय और मुसीबत के समय मनोबल [साहस] नहीं त्यागना चाहिए.
    _______________
    एक प्रेरणास्पद सूक्ति.

    ..

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

फलानि ।।

संस्‍कृतव्‍याकरणम् (समासप्रकरणम्)

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .