शिव स्‍तुति: ।।






ॐ कर्पूर गौरं करुणावतारं
संसार सारं भुजगेन्द्र हारं

सदा वसन्तं हृदयारवृन्दे
भवं भवानी सहितं नमामि !!

टिप्पणियाँ

  1. शिव जी
    भगवान शिव की स्‍तुति प्रस्‍तुत करने के लिये बहुत बहुत धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

शरीरस्‍य अंगानि

अव्यय पदानि ।।