विराटस्‍य विराटशतकम् !


भारतस्‍य आग्‍लविरुद्धं जायमानाक्रीडाया: अग्र अन्तिमा क्रीडा सम्‍प्रति क्रीड्यते उभयो: देशयो: ।
साक्षात् निमेषपूर्वमेव विराटकोहली (भारतीय दण्‍डचालक:) स्‍वस्‍य शतं कृतवान् ।  तस्‍य शतकस्‍य साक्षात् अनन्‍तरं राहुलद्रविण: 69 धावनांकानि अर्जयित्‍वा अनवधानवशात् गत: ।
        सम्‍प्रति कोहली 103 धावनांके क्रीडति ।  अन्‍य: क्रीडक: क्रीडाक्षेत्रे विद्यते रैना ।  भारतस्‍य सम्‍पूर्ण अंकानि सन्ति 231/3 ।  7 अंतकानां क्रीडा इतोपि विद्यते ।

टिप्पणियाँ

  1. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

फलानि ।।

अव्यय पदानि ।।

शकुन्‍त: (पक्षिण:) ।।

क्रीड् (खेलना) धातु: - परस्‍मैपदी