वैदिक-विसर्गसन्धि: तस्‍य भेदा: च–Vaidik Visarg Sandhi

sanskrit-images-vaidik vyanjan sandhi
          मित्राणि
गतलेखे व्‍यंजनसन्धि: तस्‍य भेदानां विषये च पठितवन्‍त: वयम् ।  सम्‍प्रति वैदिकविसर्गसन्धि: तस्‍य भेदा: च ज्ञास्‍याम: वयम् ।  वैदिक व्‍यंजनसन्धि: कतिधा ।  तस्‍य भेदा: च के के इति
विसर्गसन्धि: यथा लौकिकं भवति तथैव वैदिकमपि किन्‍तु अस्‍य भेदा: भिन्‍ना: भवन्ति ।  वैदिकविसर्गसन्‍धे: प्रायश: 14 भेदा: सन्ति ।
          एते भेदा: क्रमश: निम्‍नोक्‍ता: सन्ति -
1- पदवृत्तिसन्धि:
.           2- उद्ग्राहसन्धि:
3- नियत सन्धि:
            4- प्रश्रित सन्धि:
5- रेफसन्धि:
            6- अकामसन्धि:
7- व्‍यापन्‍नसन्धि:
            8- अन्‍वक्षरवक्‍त्रसन्धि:
9- अव्‍यापत्तिसन्धि:
            10- उपाचरितसनि्घ:
     एते सन्ति मुख्‍य भेदा: ।  एतेषाम् अतिरिक्‍तमपि केचन भेदा: सन्ति निम्‍नोक्ता: ।
11- नकार-विकार:
            12- स्‍पर्शरेफसन्धि:
13- स्‍पर्शोष्‍मरेफसन्धि:
            14- शौद्धाक्षरसन्धि:

एते सन्ति विसर्ग:सन्‍धे: भेदोपभेदा: ।  अग्रिम लेखे त्रय: सन्‍धय: तेषां भेदानां च क्रमश: व्‍याख्‍या: पठिष्‍याम: ।  तावत् नमो नम:

संस्‍कृतजगत्

टिप्पणियाँ

  1. महानुभाव नमस्कार !
    व्याकरण के ज्ञान के साथ-साथ सुगम संगीत का आनंद .......धन्यवाद !
    यदि इन गानों के स्थान पर संस्कृत के गीत या सामवेद का गान प्रस्तुत किया जा सके तो और अच्छा लगेगा .

    उत्तर देंहटाएं
  2. क्षमा करें बन्‍धु
    आपका निर्देश निश्‍चय ही अनुकरणीय है किन्‍तु सामवेद अथवा संस्‍कृत के इण्‍टरनेट रेडियो चैनल उपलब्‍ध न होने के कारण यहाँ पुराने हिन्‍दी गीतों का रेडियो चैनल रखा गया है ।
    आपके सुझाव के लिये धन्‍यवाद
    जैसे ही हमें कोई आनलाइन संस्‍कृतरेडियो चैनल मिलता है हम यहाँ उसे अवश्‍य प्रस्‍तुत करेंगे ।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

फलानि ।।

संस्‍कृतव्‍याकरणम् (समासप्रकरणम्)

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .