श्रीराम लीला अनिरूद्धनगरस्‍य (अम्‍बेडकरनगर) कानिचन चित्राणि - Ramlila- Aniruddh Nagar, Benipur, (Ambedakar Nagar)..2011









KAVI AART DOING RAJTILAK OF LORD RAM
DURING RAMLILA SAMAPAN

KAVI AART DOING RAJTILAK OF LORD RAM
DURING RAMLILA SAMAPAN


रामलीला समापनावसरे भगवत: श्रीरामचन्‍द्रस्‍य राजतिलकं कुर्वन्‍त: जना: ।  श्रीमान् अनिरूद्धमुनिपाण्‍डेय 'कवि आर्त' अपि विराजन्‍ते तत्र ।  तेषां नामस्‍योपरि एव अस्‍य सम्पूर्ण नगरस्‍य नाम एव अनिरूद्धनगर इति अस्ति ।  स्‍थानीय नेतार: अपि भगवत: तिलकं कृतवन्‍त: ।

टिप्पणियाँ

  1. श्रृंगी ऋषि का एक आश्रम छत्तीसगढ़ के सिहावा में भी बताया जाता है। सिहावा से ही महानदी का उदगम हुआ है और जिस पर्वत पर आश्रम रहा, उसी के एक कुंड से यह निकली है। अयोध्या के पास कौन सा आश्रम है। दोनों ही तथ्यों पर जरा विस्तार से और प्रमाणिक तथ्यों के साथ प्रकाश डाल पाएं तो कृपा होगी।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

अव्यय पदानि ।।

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .

फलानि ।।

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी