श्रीरामनवम्‍य: हार्दिकी शुभकामना:

अद्य रामनवमी अवसरे श्रीश्रृंगीऋषिआश्रमस्‍य द्वे चित्रे ।
 -->

टिप्पणियाँ

  1. भवन्तः आत्मनेपदीवाक्य‌ानां विषये किमपि प्रकाशयन्तु।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

फलानि ।।

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

क्रीड् (खेलना) धातु: - परस्‍मैपदी