दश उपनिषदः

ईश–केन–कठ–प्रश्न–मुण्ड–माण्डूक्य–तित्तिरः ।
ऐतरेयं च छान्दोग्यं बृहदारण्यकं तथा ।।

१– ईशावास्योपनिषद्
२– केनोपनिषद्
३– कठोपनिषद्
४– प्रश्नोपनिषद्
५– मुण्डकोपनिषद्
६– माण्डूक्योपनिषद्
७– तैत्तिरीयोपनिषद्
८– ऐतरेयोपनिषद्
९– छान्दोग्योपनिषद्
१०– बृहदारण्यकोपनिषद्

इति

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

अव्यय पदानि ।।

शरीरस्‍य अंगानि

क्रीड् (खेलना) धातु: - परस्‍मैपदी