उपान्‍वध्‍याड्.वस: - द्वितीया विभक्ति:


उपान्‍वध्‍याड्.वस:

उप, अनु, अधि, आ उपसर्गपूर्वकं वस् धातो: योगे आधारस्‍य कर्मसंज्ञा भवति ।

उदाहरणम् -

उपवसति वैकुण्‍ठं हरि: ।।
आवसति वैकुण्‍ठं हरि: ।।
अधिवसति वैकुण्‍ठं हरि: ।।
अनुवसति वैकुण्‍ठं हरि: ।।


    अत्र वस् धातो: योगे सर्वत्र आधारस्‍य कर्मसंज्ञा अभवत् । यदि अत्र एते उपसर्गा: न प्रयु‍ज्‍यन्‍ते चेत् आधारे सप्‍तमी एव भवति ।

यथा - वसति वैकुण्‍ठे हरि: ।

 

इति

टिप्पणियाँ

  1. आप के ब्लॉग पर आकर मुझे बहुत अच्छा लगा कभी हमें भी मेहमान नवाजी का मौका दीजिये

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

अव्यय पदानि ।।

शरीरस्‍य अंगानि

क्रीड् (खेलना) धातु: - परस्‍मैपदी