संदेश

November, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

गत्‍यर्थकर्मणि ..... - चतुर्थी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - 
गत्‍यर्थकर्मणि द्वितीयाचतुर्थ्‍यौ चेष्‍टायामनध्‍वनि: ।।

यदि क्रियायां शारीरिकश्रम: लगेत् तर्हि 'गति'सूचक धातूनां कर्मणि द्वितीया, चतुर्थी वा विभक्ति: भवेत् ।

हिन्‍दी -
यदि क्रिया करने में शारीरिक व्‍यापार करना पड़े तो गति (जाना) अर्थ वाली धातुओं के कर्म में द्वितीया और चतुर्थी विभक्ति होती हैं ।

उदाहरणम् - 
ग्रामम् ग्रामाय वा गच्‍छति । 
गाँव को जाता है ।


इति

अनुप्रतिगृणश्‍च - चतुर्थी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - अनुप्रतिगृणश्‍च।।

अनु, प्रति च उपसर्गपूर्वकं 'गृ' धातो: योगे पूर्वप्रवर्तनाव्‍यापारवाहे सम्‍प्रदानसंज्ञा भवति ।

हिन्‍दी -अनु तथा प्रति उपसर्ग पूर्वक 'गृ' (शब्‍द करना) धातु के योग में प्रवर्तना रूप व्‍यापार के करने वाले की सम्‍प्रदान संज्ञा होती है

उदाहरणम् - 
होत्रे अनुगृणाति प्रतिगृणाति वा । 
होता के पीछे बोलता है ।

इति

राधीक्ष्‍योर्यस्‍य .... चतुर्थी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - राधीक्ष्‍योर्यस्‍य विप्रश्‍न: ।।

शुभाशुभकथनार्थे विद्यमानौ 'राध्', 'ईक्ष्' च धातुभ्‍याम् प्रयोगे यस्मिन् विषये प्रश्‍न: कृयते स्मिन् सम्‍प्रदान संज्ञा भवति ।

हिन्‍दी - शुभाशुभ कथन अर्थ में विद्यमान राध् और ईक्ष् धातुओं के प्रयोग में जिसके विषय में प्रश्‍न किया जाता है उसकी सम्‍प्रदान संज्ञा होती है ।

उदाहरणम् - 
कृष्‍णाय राध्‍यति ईक्षते वा गर्ग: ।
गर्ग कृष्‍ण के विषये में पूंछते हैं ।

इति

मन्‍यकर्मण्‍यनादरे .... चतुर्थी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - मन्‍यकर्मण्‍यनादरेविभाषाSप्राणिषु।।

वृत्ति: - प्राणिवर्जे मन्‍यते कर्मणि चतुर्थी वा स्‍यात्तिरस्‍कारे ।।

अनादरदर्शने मनस: (अवगमनम् / मन्‍यते) तिरस्‍कारार्थे प्रयोग: सन् तस्‍य कर्मणि विकल्‍पेन चतुर्थी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी -जब अनादर दिखाया जाए तो मन् (समझना/मानना) धातु के कर्म में चतुर्थी विभक्ति का विकल्‍प से प्रयोग होता है ।

 उदाहरणम्- 
न त्‍वां तृणं तृणाय वा मन्‍ये । 
तुमको तिनके के बराबर भी नहीं समझता हूँ । 

यत्र अनादरभावदर्शनं न किन्‍तु तुलनामात्रं भवतु तत्र तु द्वितीया विभक्तिप्रयोग: एव कृयते ।
(जहाँ अनादरभाव न हो किन्‍तु केवल तुलना मात्र हो वहाँ द्वितीया विभक्ति होती है ।)

उदाहरणम् -
त्‍वां तृणं मन्‍ये । 
मैं तुम्‍हें तृणवत् समझता हूँ ।

इति

नम: स्‍वस्तिस्‍वाहा ...... - चतुर्थी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् -
नम: स्‍वस्तिस्‍वाहास्‍वधाSलंवषड्योगाच्‍च ।।

नम:, स्‍वस्ति, स्‍वाहा, स्‍वधा, अलं, वषट् च शब्‍दानां योगे चतुर्थी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - नम: (नमस्‍कार), स्‍वस्ति (कल्‍याण), स्‍वाहा (हवि कर्म), स्‍वधा (पितर तर्पण), अलम् (पर्याप्‍त), वषट् (वषट्कार) शब्‍दों के योग में चतुर्थी विभक्ति का प्रयोग होता है ।

उदाहरणम् -
नारायणाय नम: ।
नारायण को नमस्‍कार है । 
प्रजाभ्‍य: स्‍वस्ति । 
प्रजाओं का कल्‍याण हो । 
अग्‍नये स्‍वाहा । 
अग्नि के लिये हवि प्रदान । 
इन्‍द्राय वषट् । 
इन्‍द्र के लिये वषट्कार । 
दैत्येभ्‍यो हरिरलम् । 
हरि दैत्‍यों के लिये पर्याप्‍त हैं ।


इति

क्रियार्थोपपदस्‍य च ..... चतुर्थी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् -क्रियार्थोपपदस्‍य च कर्मणि स्‍थानिन: ।।

क्रियार्थ क्रिया यस्‍योपपदे भवति, तत्र च तुमुनर्थक्रियाया: प्रयोग: न भवति चेत् तुमुन्‍नन्‍ताप्रयुज्‍यमानक्रियाया: कर्मणि चतुर्थी विभक्ति: भवति ।
संक्षेपेण - तुमुन् प्रत्‍ययान्‍तधातो: प्रयोग: परोक्षे सति  तस्‍य कर्मणि चतुर्थीविभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - क्रियार्थ किया जिसके उपपद में हो तथा उस तुमुन् अर्थ की क्रिया का प्रयोग न हो तो तुमुन्‍नन्‍त अप्रयुज्‍यमान क्रिया के कर्म में चतुर्थी विभक्ति होती है । संक्षेप में - जब तुमुन् प्रत्‍ययान्‍त धातु का प्रयोग परोक्ष रहे तो उसके कर्म में चतुर्थी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 
फलेभ्‍यो याति (फलानि आनेतुं याति ) ।
फलों को लाने के लिए जाता है ।
नमस्‍कुर्मो नृसिंहाय (नृसिंहमनुकूलयितुं नमस्‍कुर्म:) । 
नृसिंह को अनुकूल करने के लिए हम लोग नमस्‍कार करते हैं । 

इति

श्रीअयोध्‍यादर्शनम् - प्रसिद्धस्‍थाननामानि ।।

चित्र
बान्‍धव:
अयोध्‍याधामदर्शनाय ये केSपि आगच्‍छन्ति तेषां म‍नसि प्राय: एकैव प्रश्‍न: भवति यत् कुत्र अटनीयम्, कुत्र गन्‍तव्‍यं वा इति । यदि कश्चित् अयोध्‍यां प्रति सम्‍पूर्णमटितुमिच्‍छति चेत् ज्ञायते एव न यत् कुत्र-कुत्र गमनीयम् । तदैव सम्‍प्रति अन्‍वेषणं कृत्‍वा अत्र 150 प्रसिद्धस्‍थानानानां नामानि प्रकाश्‍यते । एतेषां नामानि अकारादिक्रमेण अस्ति ।

हिन्‍दी -
मित्रों
अयोध्‍यादर्शन के लिये आया हुआ या आनेवाला व्‍यक्ति प्राय: इस विषय में शंकित रहता है कि क्‍या देखें, कहाँ जाएं । यदि सम्‍पूर्ण अयोध्‍यादर्शन के लिये कोई जाना चाहे तो इस विषय में निश्चित् ही अनिश्‍चय की अवस्‍था हो जाती है । अधिक स्‍थानों के बारे में न जानने के कारण प्राय: लोग कुछ स्‍थानों के दर्शन कर ही लौट जाते हैं । इसी विषय को ध्‍यान देते हुए यहाँ 150 प्रसिद्ध स्‍थानों की सूची प्रकाशित की जा रही है जहाँ आप दर्शन करने जा सकते हैं ।
यह सूची अकारादिक्रम में है ।


1. श्री अखिलेश्वर दास मंदिर
2. श्री अग्रहरि मंदिर
3. श्री अशर्फी भवन
4. श्री आचारीबाबासगरा मंदिर
5. श्री ऋषभदेव राजघाट उद्यान
6. श्री कंचनभवन
7. श्री कनकभवन
8. श्री कनकभव…

हितयोगे च - चतुर्थी विभक्ति: ।

चित्र
सूत्रम् - हितयोगे च (वार्तिकम्) 

'हित', 'सुख' च योगे अपि चतुर्थी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - हित तथा सुख के योग में भी चतुर्थी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 
ब्राह्मणाय हितं/सुखं वा ।
ब्राह्मण के लिए हितकर/सुखकर ।

इति

उत्‍पातेन..... - चतुर्थी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - उत्‍पातेन ज्ञापिते चक्रे ।।

 भौतिकोत्‍पातिभि: सूचितवस्‍तुषु चतुर्थी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - भौतिक उत्‍पातों से सूचित वस्‍तु में चतुर्थी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 
वाताय कपिला विद्युत् ।
रक्‍ताभ विद्युत आँधी की सूचना देती है ।

इति

क्‍लृपिसंपद्यमाने..... चतुर्थी विभक्ति: ।

चित्र
सूत्रम् -क्‍लृपिसंपद्यमाने च (वार्तिकम्)

क्लृपि धातु:, तस्‍य सामानार्थिधातूनां च (फलप्राप्ति: अर्थे, सम्‍पूरणार्थे, उत्‍पत्ति-अर्थे च )  परिणामे चतुर्थी विभक्ति: भवति ।
इत्‍युक्‍ते
यदि कंचित् कार्यं कस्‍यचिदन्‍यस्‍य परिणामस्‍य प्राप्तिनिमित्‍तं क्रियते चेत् तस्मिन् परिणामे चतुर्थी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - क्‍लृपि धातु तथा उसकी अन्‍य समानार्थी धातुओं का तात्‍पर्य जब फल निकलना, पूरा होना अथवा उत्‍पन्‍न होना हो तो परिणाम में चतुर्थी विभक्ति का प्रयोग होता है । अर्थात् यदि कोई कार्य किसी अन्‍य परिणाम की प्राप्ति के लिये किया जाए तो उस परिणाम में चतुर्थी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 
भक्ति: ज्ञानाय कल्‍पते, सम्‍पद्यते, जायते ।
भक्ति ज्ञान के लिये होती है (भक्ति से ज्ञान की प्राप्ति होती है )

इति

तादर्थ्‍ये चतुर्थी ..... चतुर्थी विभक्ति: ।

चित्र
सूत्रम् -तादर्थ्‍ये चतुर्थी वाच्‍या (वार्तिकम्)

प्रयोजनवशात् यदि किमपि कार्य क्रियते चेत् तस्मिन् प्रयोजने चतुर्थी विभक्ति: स्‍यात् ।

हिन्‍दी - यदि किसी प्रयोजन से कोई कार्य किया जाए तो उस प्रयोजन में चतुर्थी विभक्ति होती है । 

उदाहरणम् - 
मुक्‍तये हरिं भजति । 
मुक्ति के लिये हरि को भजता है । 
धनाय प्रयतते ।
धन के लिये प्रयत्‍न करता है । 
मोदकाय रोदिति ।
लड्डू के लिये रोता है । 

आदि 


इति

तुमर्थाच्‍च .... चतुर्थी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - तुमर्थाच्‍च भाववचनात्

कस्मिंश्चिद् धातौ तुमुन् प्रत्‍यययोजनेन यदर्थं प्राप्‍यते तदर्थप्रकटनाय एव तध्‍धातुना निर्मितभाववाचकसंज्ञाप्रयोगे तस्मिन् चतुर्थीविभक्तिप्रयोग: कृयते ।

हिन्‍दी - किसी धातु से तुमुन प्रत्‍यय जोडने से जो अर्थ निकलता है (जैसे अत्‍तुम् - खाने के लिये , पातुं - पीने के लिये) उस अर्थ को प्रकट करने के लिये उसी धातु से बनी हुई भाववाचक संज्ञा का प्रयोग करने पर उसमें चतुर्थी विभक्ति योजित होती है ।

उदाहरणम् - 
यागाय याति (यष्‍टुं याति) ।
यज्ञ के लिये जाता है ।

शयनाय गच्‍छति (शयितुं गच्‍छति) ।
सोने जाता है ।

इति

परिक्रयणे सम्‍प्रदान.... चतुर्थी विभक्ति: ।

चित्र
परिक्रयणे सम्‍प्रदानमन्‍यतरस्‍याम्

परिक्रयणार्थे सम्‍प्रदानसंज्ञा विकल्‍पेन भवति ।
नियतकालाय कस्‍मैचित् सेवायां धारणं मूल्‍येन भवतु चेत् सहायकस्‍य (वित्‍तस्य) विकल्‍पेन सम्‍प्रदानसंज्ञा अपि भवति । विकल्‍पेन इत्‍युक्‍ते अत्र करणसंज्ञा तु पूर्वमेव किन्‍तु विकल्‍पेन सम्‍प्रदानसंज्ञा अपि भवति ।

हिन्‍दी -
परिक्रयणे अर्थ में सम्‍प्रदान विकल्‍प से होता है ।
निश्चित काल के लिये किसी को वेतन या मजदूरी पर रखने को परिक्रयण कहते हैं, इसके जो अत्‍यन्‍त उपकारक हों उनकी विकल्‍प से सम्‍प्रदान संज्ञा होती है । विकल्‍प से अर्थात् परिक्रयण में करण कारक तदनुसार तृतीया पहले से ही लगी हुई है किन्‍तु विकल्‍प से करण के स्‍थान पर सम्‍प्रदान का प्रयोग भी किया जा सकता है ।

उदाहरणम् -
शतेन शताय वा परिक्रीत: ।
सौ रूपये पर रखा हुआ है ।


इति