अनुप्रतिगृणश्‍च - चतुर्थी विभक्ति: ।।



सूत्रम् - अनुप्रतिगृणश्‍च।।

अनु, प्रति च उपसर्गपूर्वकं 'गृ' धातो: योगे पूर्वप्रवर्तनाव्‍यापारवाहे सम्‍प्रदानसंज्ञा भवति ।

हिन्‍दी - अनु तथा प्रति उपसर्ग पूर्वक 'गृ' (शब्‍द करना) धातु के योग में प्रवर्तना रूप व्‍यापार के करने वाले की सम्‍प्रदान संज्ञा होती है

उदाहरणम् - 
होत्रे अनुगृणाति प्रतिगृणाति वा । 
होता के पीछे बोलता है ।

इति

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

अव्यय पदानि ।।

शरीरस्‍य अंगानि

क्रीड् (खेलना) धातु: - परस्‍मैपदी