संदेश

January, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आख्यातोपयोगे – पंचमी विभक्तिः (अपादान कारकम्) ।।

चित्र
सूत्रम् –आख्यातोपयोगे ।।
नियमपूर्वकं विद्‍याग्रहणे अध्यापके‚ शिक्षके वा पंचमी विभक्तिः भवति । आख्याता इत्यर्थः वक्ता‚ उपदेष्टा‚ शिक्षकः‚ अध्यापकः वा । उपयोगस्यार्थः ब्रह्मचर्यादि नियमानां पालनेन सह विद्‍याध्ययनम् ।

हिन्दी – नियमपूर्वक विद्‍याग्रहण करने में अध्यापक या शिक्षक में पंचमी विभक्ति होती है ।  आख्याता का अर्थ है वक्ता‚ उपदेष्टा‚ शिक्षक या अध्यापक । उपयोग का अर्थ है – ब्रह्मचर्य आदि नियमों का पालन करते हुए विद्‍याध्ययन करना ।

उदाहरणम् – 

उपाध्यायाद् अधीते ।
गुरु से पढता है ।

इति

अन्‍तर्धौ येनादर्शन..... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्)

चित्र
सूत्रम् - अन्‍तर्धौ येनादर्शनमिच्‍छति ।।

अन्‍तर्धि (छिपना, ओट में होना) अर्थे यस्‍मात् आत्‍मानं निमी‍लनमिच्‍छति तस्मिन् अपादानकारकं तदनुसारं पंचमी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - अन्‍तर्धि अर्थ में जिससे छिपने की इच्‍छा करता है उसमें अपादानकारक तदनुसार पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 
मातुर्निलीयते कृष्‍ण: ।
कृष्‍ण माता से छिपता है ।

इति

वारणार्थानामीप्सितः – पंचमी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् – वारणार्थानामीप्सितः ।।

वारणार्थ (रोकना‚ हटाना) धातूनां प्रयोगे अभीष्ट वस्तौ पंचमीविभक्तिः भवति ।

हिन्दी – वारण अर्थवाली धातुओं के प्रयोग में इष्ट वस्तु में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् – 
यवेभ्यो गां वारयति ।
जौ से गाय को हटाता है ।

इति

पराजेरसोढ: - पंचमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - पराजेरसोढ: ।।

परा  जि (हार मानना) धातो: योगे असह्यवस्‍तो: (येन् पराजयं मन्‍ये) अपादान संज्ञा भवति ।  तदनुसारं पंचमी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - परा जि (हार मानना) धातु के योग में  असह्य वस्‍तु (जिससे ऊब या हार माना जाए) की अपादान संज्ञा होती है तदनुसार पंचमी विभक्ति का प्रयोग होता है ।

उदाहरणम् - 

अध्‍ययनात् पराजयते ।
पढाई से हार मानता है ।

इति

भारतस्‍य परमवीरचक्रविजेतृणां नामानि ।

चित्र
इदानीं पर्यन्‍तम् अस्‍माकं भारते 21 जना: परमवीरचक्रसम्‍मानं प्राप्‍तवन्‍त: सन्ति । एतेषां नामानि अधोलिखितानि सन्ति । -

नायब सूबेदार बाना सिंह सूबेदार जोगिन्दर सिंह कैप्टन गुरबचन सिंह सालारिया मेजर सोमनाथ शर्मा कम्पनी क्वार्टर मास्टर हवलदार अब्दुल हमीद मेजर होशियार सिंह कैप्टन विक्रम बत्रा लांस नायक अल्बर्ट एक्का लेफ्टिनेंट कर्नल ए. बी. तारापोरे राइफ़लमैन संजय कुमार कम्पनी हवलदार मेजर पीरू सिंह कैप्टन मनोज कुमार पांडेय मेजर धन सिंह थापा ग्रेनेडियर योगेन्द्र सिंह यादव फ़्लाइंग ऑफ़िसर निर्मलजीत सिंह सेखों लांसनायक करम सिंह नायक जदुनाथ सिंह मेजर शैतान सिंह सेकेंड लेफ्टिनेंट अरुण खेत्रपाल मेजर रामास्वामी परमेस्वरन सेकेंड लेफ्टिनेंट रामा राघोबा राने  एतेषु प्रायेण 12 जना: मरणोपरान्‍तं परमवीरचक्रं प्राप्‍तवन्‍त: । एतेषां विवरणम् अग्रे प्रकाशिष्‍यते । एतेभ्‍य: महावीरेभ्‍य: नमाम: ।



इति

भीत्रार्थानां भयहेतु: - पंचमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् -भीत्रार्थानां भयहेतु: ।।

भी (डरना), त्रा (बचाना) धातुभ्‍यां योगे तयो: समानार्थशब्‍दयोगेपि च भयस्‍य कारणम् अपादानसंज्ञकं स्‍यात् तदनुसारं तेषु पंचमी विभक्ति: प्रयुज्‍यते ।

हिन्‍दी - भी (डरना), और त्रा (बचाना) धातुओं तथा इनके समानार्थी अन्‍य धातुओं के प्रयोग में भय का कारण अपादान संज्ञक होता है तथा उसमें पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 

चोराद् विभेति ।
चोर से डरता है ।

चोरात् त्रायते ।
चोर से बचाता है ।

इति

जुगुप्‍साविराम.... पंचमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् -जुगुप्‍साविरामप्रमादार्थानामुपसंख्‍यानम् (वार्तिकम्) ।

जुगुप्‍सा (घृणा), विराम (अवरोध:, अपवारणं) प्रमाद (आलस्‍यम्) अर्थजन्‍यशब्‍देषु जुगुप्‍साविषये पंचमी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - जुगुप्‍सा (घृणा), विराम (रुकावट, हटना), और प्रमाद  (आलस्‍य, असावधानी) अर्थ वाले शब्‍दों के योग में जुगुप्‍सा आदि के विषय में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 

पापात् जुगुप्‍सते, विरमति ।
पाप से घृणा करता है / पाप से रुकता है ।

धर्मात् प्रमाद्यति ।
धर्म से प्रमाद करता है ।


इति

पंचमी विभक्ति: - अपादानकारकम् ।।

चित्र
सूत्रम् - ध्रुवमपाये पादानम् 

ध्रुव (निश्‍चलं/अवधिरूपं) स्‍थानात् वस्‍तो: वा अपायं (पृथक्करणम्, विश्‍लेष:)  अपादानमिति उच्‍यते । इत्‍युक्‍ते कस्‍माचित् स्थिरवस्‍तो: कस्‍यचित् अन्‍यवस्‍तो: पृथक्करणमेव अपादानम् उच्‍यते ।

हिन्‍दी - किसी ध्रुव (अचल) वस्‍तु या स्‍थान से अपाय (अलग होना) की अवस्‍था में अचल वस्‍तु या स्‍थान की अपादानसंज्ञा (अपादान कारक) होगी ।

सूत्रम् -अपादाने पंचमी । 

यत्र अपादानकारकं भवति तत्र पंचमी विभ‍क्‍ते: प्रयोग: क्रियते ।

जहाँ अपादान कारक होता है वहां पंचमी विभक्ति का प्रयोग किया जाता है ।

उदाहरणम् - 
ग्रामात् आयाति ।
गांव से आता है ।

वृक्षात् पत्रं पतति ।
वृक्ष से पत्‍ता गिरता है ।

इति