आख्यातोपयोगे – पंचमी विभक्तिः (अपादान कारकम्) ।।


सूत्रम् – आख्यातोपयोगे ।।
नियमपूर्वकं विद्‍याग्रहणे अध्यापके‚ शिक्षके वा पंचमी विभक्तिः भवति । आख्याता इत्यर्थः वक्ता‚ उपदेष्टा‚ शिक्षकः‚ अध्यापकः वा । उपयोगस्यार्थः ब्रह्मचर्यादि नियमानां पालनेन सह विद्‍याध्ययनम् ।

हिन्दी – नियमपूर्वक विद्‍याग्रहण करने में अध्यापक या शिक्षक में पंचमी विभक्ति होती है ।  आख्याता का अर्थ है वक्ता‚ उपदेष्टा‚ शिक्षक या अध्यापक । उपयोग का अर्थ है – ब्रह्मचर्य आदि नियमों का पालन करते हुए विद्‍याध्ययन करना ।

उदाहरणम् – 

उपाध्यायाद् अधीते ।
गुरु से पढता है ।

इति

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

अव्यय पदानि ।।

शरीरस्‍य अंगानि

क्रीड् (खेलना) धातु: - परस्‍मैपदी