संदेश

February, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

अन्‍यार‍ादितरर्तेदिक् ... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारक) ।।

चित्र
सूत्रम् - अन्‍यारादितरर्तेदिक्शब्‍दाञ्चूत्‍तरपदाजाहियुक्‍ते
।।02/03/29।।

अन्‍य, आरात्, इतर, ऋते, दिशावचकशब्‍दा:, येषामुत्‍तरं अञ्च् धातु स्‍यात् तेषां, आच् (आ), आहि च प्रत्‍ययान्‍तशव्‍दानां योगे पंचमी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - अन्‍य, आरात्, इतर, ऋते, दिशावाचक शब्‍द, जिस शब्‍द के उत्‍तर पद में अञ्च् धातु है, तथा आच् (आ) और आहि प्रत्‍ययान्‍त शब्‍दों के योग में पंचमी होती है ।


उदाहरण -

(अन्‍य और इतर के कारण पंचमी)
अन्‍यो भिन्‍न इतरो वा कृष्‍णात् ।।
कृष्‍ण से भिन्‍न ।।
(आरात् के कारण पंचमी)
आरात् वनात् ।।
वन से दूर ।।
(ऋते के कारण पंचमी)
ऋते कृष्‍णात् ।।
कृष्‍ण के बिना ।।
(दिशावाचक पूर्व के कारण पंचमी)
पूर्वो ग्रामात् ।।
गांव से पूर्व की ओर ।।
(कालवाचक पूर्व के कारण पंचमी)
चैत्रात् पूर्व: फाल्‍गुन:।।
चैत्र से पहले फागुन होता है ।।
(प्राक्, प्रत्‍यक् के योग में पंचमी) 
प्राक्,प्रत्‍यक् वा ग्रामात्।।
गांव से पूर्व या पश्चिम की ओर ।।
(दूर के अर्थ में आहि के कारण पंचमी)
दक्षिणाहि ग्रामात् ।।
गांव से दूर दक्षिण की ओर ।।
(प्रभृति और आरभ्‍य के योग में भवात् में पंचमी)
भवात् प्रभृति आरभ्‍य वा सेव्‍यो ह…

यतश्‍चाध्‍व .... - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारक) ।।

चित्र
वार्तिकम् -यतश्‍चाध्‍वकालनिर्माणंतत्रपंचमी।।

यत् आधारं मत्‍वा मार्गस्‍य कालस्‍य वा परिमाण-मापनं क्रियते तस्‍य आधारसूचकशब्‍दस्‍य अपादानकारकं स्‍यात् तद‍नुसारं पंचमी विभक्ति: भवति ।।

हिन्‍दी - जिस को आधार मानकर मार्ग या काल की दूरी का निर्धारण किया जाता है उसकी अपादान संज्ञा तथा पंचमी विभक्ति होती है ।


इति

संस्‍कृतजगत् ईशोधपत्रिका के अंग्रिम संस्‍करण के प्रकाशन की पूर्वसूचना व लेख आमन्‍त्रण ।।

चित्र
:  सूचना  :
संस्‍कृतजगत् ईशोधपत्रिकाया: अग्रिमसंस्‍करणस्‍य प्रकाशनम् आगामिमासे भविष्‍यति । ये शोधछात्रा: आत्‍मन: शोधपत्रस्‍य प्रकाशनं वांछन्‍त: सन्ति ते शीघ्रातिशीघ्रं स्‍वशोधपत्रम् pramukh@sanskritjagat.com, pandey.aaanand@gmail.com
ईसंकेते प्रेषयेयु: । 

   शोधपत्रप्रेषणस्‍य अंतिमतिथि: 15 मार्च 2016 इति अस्ति । शोधपत्रं संप्रेष्‍य कृपया 9918858080 संख्‍यायां संदेशमाध्‍यमेन ह्वाट्सएप माध्‍यमेन वा सूचनीय: । सूचनया विना पत्रप्रकाशनं नैव भविष्‍यति ।

विशेष: - बहूनां छात्राणां निवेदनं प्राप्‍तं यत् संस्‍कृतजगत् ईपत्रिका तेभ्‍य: पुस्तिकारूपेण तेषां हस्‍ते देय: । तदर्थं संस्‍कृतजगत्  ईपत्रिकाया: सम्‍प्रति पार्थिवपुस्‍तकं (हार्डकॉपी) अपि निष्‍काष्‍यते । पार्थिवपुस्‍तकं प्राप्‍तुं भवन्‍त: प्रेषणव्‍यय: अतिरिक्‍तदेय: भविष्‍यति ।  छात्रा: ये पार्थिवपुस्‍तकं प्राप्‍तुमिच्‍छन्‍त: सन्ति ते पूर्वमेव सूचनीया: ।
धन्‍यवादा:

हिन्‍दी - संस्‍कृतजगत् ईशोधपत्रिका का अग्रिम संस्‍करण अगले महीने में प्रकाशित होने जा रहा है । जिन शोधछात्रों को अपने शोधपत्र प्रकाशित कराने हैं वे अपने शोधपत्र
pramukh@sanskritjagat.c…

गम्‍यमानापि .... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।

चित्र
वार्तिकम् -गम्‍यमानापि क्रिया कारकविभक्‍तीनां निमित्‍तम्।।

गम्‍यमान् (अवबोधक) क्रिया अपि कारकविभक्‍तयो: कारणं भवति ।

हिन्‍दी - गम्‍यमान अर्थात् किसी भी अनकही क्रिया का ज्ञान कराने वाली क्रिया भी कारक विभक्तियों का कारण होती है ।

उदाहरणम् - 
प्रश्‍न: - कस्‍मात् त्‍वम् 
प्रश्‍न - तुम कहाँ से आ रहे हो ।
उत्‍तरम् - विद्यालयात् ।
उत्‍तर - विद्यालय से ।

ज्ञेया-क्रिया 'आगत:' इत्‍यस्‍य आधारं स्‍वीकृत्‍य 'कस्‍मात्', 'नद्या:' च शब्‍दयो: पंचमी विभक्ति: जाता ।।


इति

ल्‍यब्लोपे ...... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)

चित्र
वार्तिकम्- ल्‍यब्लोपे कर्मण्‍यधिकरणे ।।

 ल्‍यप्, क्‍त्‍वा वा प्रत्‍ययान्‍तस्‍य अर्थगोपिते सति कर्मणि, आधारे च पंचमी विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - ल्‍यप् या क्‍त्‍वा प्रत्‍ययान्‍त शब्‍द का अर्थ गुप्‍त रहने पर कर्म और आधार में पंचमी होती है।

उदाहरणम् - 
प्रासादात् प्रेक्षते (प्रासादम् आरुह्य प्रेक्षते)
महल पर चढकर देखता है (महल से देखता है) ।।

इति

भुव: प्रभव: - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)

चित्र
सूत्रम् - भुव: प्रभव: ।।

भू धातो: उत्‍पत्तिस्‍थाने पंचमी विभक्ति: भवति । भू इत्‍यस्‍यार्थ: प्राकट्यं, उत्‍पत्ति: वा, प्रभव: इत्‍यस्‍यार्थ: उद्गमस्‍थानम्, उत्‍पत्तिस्‍थानं वा ।

हिन्‍दी - भू का अर्ध प्रकट होना, उत्‍पन्‍न होना, प्रभव इत्‍युक्‍ते उत्‍पत्तिस्‍थान, या उद्गमस्‍थान । इस तरह सूत्र का अर्थ हुआ भू धातु के उत्‍पत्ति स्‍थान में पंचमी विभक्ति होती है, अथवा किसी भी तत्‍व के उत्‍पत्ति दर्शाने हेतु जब भू धातु का प्रयोग किया जाए तो उत्‍पत्ति स्‍थान में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 

गंगा हिमालयात् प्रभवति ।
गंगा हिमालय से निकलती है ।

इति

जनिकर्तु: प्रकृति: - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)

चित्र
सूत्रम् - जनिकर्तु: प्रकृति: ।। 

जनि इत्‍युक्‍ते - जन्‍म, उत्‍पत्ति: वा । प्रकृति: इत्‍युक्‍ते कारणं, मूलं वा । चेत्  उत्‍पद्यमानस्‍य वस्‍तो: उत्‍पत्ते: मूलकारणे पंचमी विभक्ति: स्‍यात् ।

हिन्‍दी - जनि का अर्थ - जन्‍म या उत्‍पत्ति, तथा प्रकृति का तात्‍पर्य - मूल कारण या कारण से है । इस तरह उत्‍पन्‍न होने वाली वस्‍तु के उत्‍पत्ति के मूल कारण में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 
ब्रह्मण: प्रजा: प्रजायन्‍ते ।
ब्रह्मा से प्रजाएं उत्‍पन्‍न होती हैं ।।

इति