भुव: प्रभव: - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)



सूत्रम् - भुव: प्रभव: ।।

भू धातो: उत्‍पत्तिस्‍थाने पंचमी विभक्ति: भवति । भू इत्‍यस्‍यार्थ: प्राकट्यं, उत्‍पत्ति: वा, प्रभव: इत्‍यस्‍यार्थ: उद्गमस्‍थानम्, उत्‍पत्तिस्‍थानं वा ।

हिन्‍दी - भू का अर्ध प्रकट होना, उत्‍पन्‍न होना, प्रभव इत्‍युक्‍ते उत्‍पत्तिस्‍थान, या उद्गमस्‍थान । इस तरह सूत्र का अर्थ हुआ भू धातु के उत्‍पत्ति स्‍थान में पंचमी विभक्ति होती है, अथवा किसी भी तत्‍व के उत्‍पत्ति दर्शाने हेतु जब भू धातु का प्रयोग किया जाए तो उत्‍पत्ति स्‍थान में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 

गंगा हिमालयात् प्रभवति ।
गंगा हिमालय से निकलती है ।

इति

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

फलानि ।।

संस्‍कृतव्‍याकरणम् (समासप्रकरणम्)

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .