संस्‍कृतजगत् ईशोधपत्रिका के अंग्रिम संस्‍करण के प्रकाशन की पूर्वसूचना व लेख आमन्‍त्रण ।।



:  सूचना  :

संस्‍कृतजगत् ईशोधपत्रिकाया: अग्रिमसंस्‍करणस्‍य प्रकाशनम् आगामिमासे भविष्‍यति । ये शोधछात्रा: आत्‍मन: शोधपत्रस्‍य प्रकाशनं वांछन्‍त: सन्ति ते शीघ्रातिशीघ्रं स्‍वशोधपत्रम् pramukh@sanskritjagat.com, pandey.aaanand@gmail.com
ईसंकेते प्रेषयेयु: । 

   शोधपत्रप्रेषणस्‍य अंतिमतिथि: 15 मार्च 2016 इति अस्ति । शोधपत्रं संप्रेष्‍य कृपया 9918858080 संख्‍यायां संदेशमाध्‍यमेन ह्वाट्सएप माध्‍यमेन वा सूचनीय: । सूचनया विना पत्रप्रकाशनं नैव भविष्‍यति ।

विशेष: - बहूनां छात्राणां निवेदनं प्राप्‍तं यत् संस्‍कृतजगत् ईपत्रिका तेभ्‍य: पुस्तिकारूपेण तेषां हस्‍ते देय: । तदर्थं संस्‍कृतजगत्  ईपत्रिकाया: सम्‍प्रति पार्थिवपुस्‍तकं (हार्डकॉपी) अपि निष्‍काष्‍यते । पार्थिवपुस्‍तकं प्राप्‍तुं भवन्‍त: प्रेषणव्‍यय: अतिरिक्‍तदेय: भविष्‍यति ।  छात्रा: ये पार्थिवपुस्‍तकं प्राप्‍तुमिच्‍छन्‍त: सन्ति ते पूर्वमेव सूचनीया: ।
धन्‍यवादा:

हिन्‍दी - संस्‍कृतजगत् ईशोधपत्रिका का अग्रिम संस्‍करण अगले महीने में प्रकाशित होने जा रहा है । जिन शोधछात्रों को अपने शोधपत्र प्रकाशित कराने हैं वे अपने शोधपत्र
pramukh@sanskritjagat.com, 
pandey.aaanand@gmail.com
ईसंकेतों पर भेज सकते हैं । शोधपत्रिका मार्च मास के अंत में प्रकाशित की जाएगी । शोधपत्र भेजने की अंतिम तिथि 15 मार्च 2016 है ।  कृपया अपना शोधपत्र भेजने के बाद हमें 9918858080 पर संदेश अथवा ह्वाट्सएप के माध्‍यम से सूचित करें । सूचना दिये बिना शोधपत्र प्रकाशित नहीं किये जाएँगे ।

विशेष - कई शोधछात्रों का निवेदन प्राप्‍त हुआ है संस्‍कृतजगत् शोधपत्रिका को पुस्तिका रूप में (हार्ड कापी) प्राप्‍त करने के सन्‍दर्भ में । इस पर विचार करते हुए समिति ने छात्रों की सुविधा के हेतु ईपत्रिका को पत्रिका के रूप में भी प्रस्‍तुत करने का विचार किया है । जिन छात्रों को पत्रिका की हार्ड कापी चाहिये वे इसकी सूचना प्रकाशन के पूर्व ही प्रदान करें । हार्ड कापी प्राप्‍त करने के लिये आपको प्रेषण व्‍यय अतिरिक्‍त देना पडेगा ।
किसी भी जानकारी के लिये हमें 9918858080, 9532991551 संख्‍याओं पर सम्‍पर्क कर सकते हैं ।

इति

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .

संस्‍कृतव्‍याकरणम् (समासप्रकरणम्)

अव्यय पदानि ।।

कारक प्रकरणम् (कर्ता, कर्म, करणं च)