संदेश

March, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पंचमी विभक्ति : (अपादान कारकम्) - सम्‍पूर्णम् ।।

चित्र
पंचमी विभक्‍ते: - अपादान कारकम् (पंचमी विभक्ति:) ।।दूरान्तिकार्थेभ्‍यो द्वितीया च - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।करणेचस्‍तोकाल्‍पकृच्‍ .... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।पृथग्विनानानाभि:.... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।विभाषा गुणेSस्त्रियाम् - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।अकर्तर्यृणे .... पंचमीविभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।प्रतिनिधि प्रतिदान..... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)कर्मप्रवचनीयसंज्ञा - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।अपपरी वर्जने - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।अन्‍यार‍ादितरर्तेदिक् ... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारक) ।।यतश्‍चाध्‍व .... - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारक) ।।गम्‍यमानापि .... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।ल्‍यब्लोपे ...... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)भुव: प्रभव: - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)जनिकर्तु: प्रकृति: - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)आख्यातोपयोगे – पंचमी विभक्तिः (अपादान कारकम्) ।।अन्‍तर्धौ येनादर्शन..... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्)वारणार्थानामीप्सितः – पंचमी विभक्तिः ।।पराजेरसोढ: - पंचमी विभक्ति: ।।भीत्रार्थानां भयहेतु: - पंचमी विभक्ति: ।…

पंचमी विभक्‍ते: - अपादान कारकम् (पंचमी विभक्ति:) ।।

चित्र
सूत्रम् - पंचमी विभक्‍ते: ।।
ईयसुन अथवा तरप् प्रत्‍ययान्‍तविशेषणेन अथवा साधारणविशेषणेन उत क्रियया यस्‍मात् कस्‍यचित् वस्‍तो: तुलनात्‍मक-तारतम्‍यतां दर्शयते तस्मिन् पंचमी विभक्ति: भवति । किन्‍तु उभौ वस्‍तू भिन्‍न जाति, गुण, क्रिया, संज्ञां च धारयेताम् ।।
यत्र केनचित् वस्‍तुना अन्‍यवस्‍तुना सह तुलना क्रियते तत्र पंचमी विभक्ति: भवति ।हिन्‍दी - 
इयसुन अथवा तरप् प्रत्‍ययान्‍त विशेषण के द्वारा अथवा साधारण विशेषण या क्रिया के द्वारा जिससे किसी वस्‍तु की तुलनात्‍मक तारतम्‍यता दिखाई जाती है उसमें पंचमी विभक्ति होती है किन्‍तु दोनों वस्‍तुएँ भिन्‍न जाति, गुण, क्रिया तथा संज्ञा वाली होनी चाहिए ।
जहाँ किसी वस्‍तु से किसी अन्‍य वस्‍तु की तुलना की जाती है उसमें पंचमी विभक्ति होती है ।उदाहरणम् -
मौनात् सत्‍यं विशिष्‍यते - मौन से सत्‍य श्रेष्‍ठ है । माता स्‍वर्गा‍दपि श्रेष्‍ठा भवति - माता स्‍वर्ग से भी श्रेष्‍ठ होती है । गंगा यमुनाया: अति पवित्रा अस्ति - गंगा यमुना से बहुत पवित्र नदी है ।

इति

दूरान्तिकार्थेभ्‍यो द्वितीया च - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

चित्र
सूत्रम् - दूरान्तिकार्थेभ्‍यो द्वितीया च ।।2/3/35।।

दूरं समीपं च अर्थे द्वितीया विभक्ति: भवति, विकल्‍पेन पंचमी, तृतीया च विभक्तिरपि भवति ।

हिन्‍दी - दूर व समीप के अर्थ में द्वितीया विभक्ति होती है । विकल्‍प से पंचमी व तृतीया विभक्ति भी होती है ।

उदाहरणम् - 

ग्रामस्‍य दूरं दूरात् दूरेण वा 
गांव से दूर ।।
ग्रामात् अन्तिकम्, अन्तिकात् अन्तिकेन वा ।। 
गांव के समीप।।

इति

करणेचस्‍तोकाल्‍पकृच्‍ .... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

चित्र
सूत्रम् -करणेचस्‍तोकाल्‍पकृच्‍छ्र-कतिपयस्‍यासत्‍ववचनस्‍य।। 2/3/33 ।।

स्‍तोकम् (थोडा), अल्‍पम् (कम), कृच्‍छ्र (कठिनाई), कतिपय(कुछ) चैतेषु चतुर्षुशब्‍देषु तृतीया पंचमी च उभौ विभक्‍ती भवत: यदि एते द्रव्‍यवाचका: न स्‍यु: करणरूपेण च प्रयुक्‍ता: स्‍यु: चेत् ।।

हिन्‍दी -स्‍तोक (थोडा), अल्‍प (कम), कृच्‍छ्र (कठिनाई), और कतिपय (कुछ) ये चारों शब्‍द यदि द्रव्‍यवाचक न हों तथा साधन के रूप में प्रयुक्‍त हों तब इनके योग में तृतीया तथा पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 

स्‍तोकेन स्‍तोकाद् वा मुक्‍त: । 
थोडे से प्रयास से ही छूट गया ।।

इति

पृथग्विनानानाभि:.... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

चित्र
सूत्रम्-पृथग्विनानानाभिस्‍तृतीयाSन्‍यतरस्‍याम्।। 2/3/32

पृथक्, विना, नाना शब्‍दानां योगे विकल्‍पेन तृतीया भवति पक्षे तु पंचमी, द्वितीया च भवत: ।

हिन्‍दी -पृथक्, विना, और नाना शब्‍दों के योग में विकल्‍प से तृतीया विभक्ति होती है तथा पक्ष में पंचमी व द्वितीया विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् -

पृथक् रामेण रामात् रामं वा । 
राम से भिन्‍न ।।

इति

विभाषा गुणेSस्त्रियाम् - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

चित्र
सूत्रम् -विभाषा गुणेSस्त्रियाम् ।।

य: गुणवाचक: शब्‍द: हेतुरपि (कारणमपि) भवति अथ च स्‍त्रीलिंगे न स्‍यात् तस्‍य विकल्‍पेन पंचमी विभक्ति: भवति । पक्षे तु तृतीया विभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - जो गुणवाचक शब्‍द स्‍वयं कारण भी हो तथा स्‍त्रीलिंग में न हो उससे विकल्‍प से पंचमी विभक्ति होती है तथा मुख्‍यत: तृतीया विभक्ति होती है ।।

उदाहरणम् - 

जाड्यात् जाड्येन वा बद्ध: ।
मूर्खता से (के कारण) बंध गया ।।

इति

अकर्तर्यृणे .... पंचमीविभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।

चित्र
सूत्रम् - अकर्तर्यृणे पंचमी ।।2-3-24।।

ऋणात्‍मकशब्‍द: यदा स्‍वयं कर्ता अभूत्‍वा अन्‍यस्‍य कार्यस्‍य कारणं भवति चेत् तेन पंचमी विभक्ति: भवति।

हिन्‍दी - ऋणवाचक शब्‍द जब स्‍वयं कर्ता न होकर किसी कार्य का कारण होता है तब उससे पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् - 

शताद् बद्ध: ।
सौ रूपये ऋण के कारण बंधा है ।।


इति-

प्रतिनिधि प्रतिदान..... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)

चित्र
सूत्रम् -प्रति:प्रतिनिधिप्रतिदानयो:।।(1-4-12)
प्रतिनिधि, प्रतिदान (बदलना) च अर्थे प्रति इत्‍यस्‍य कर्मप्रवचनीय संज्ञा स्‍यात् ।।

हिन्‍दी - प्रति‍निधि और प्रतिदान (अर्थ) में प्रति की कर्मप्रवचनीय संज्ञा होती है ।

सूत्रम् - प्रतिनिधिप्रतिदाने च यस्‍मात् ।।(2-3-11)

यस्‍य प्रतिनिधि: भवति उत यस्‍मात् वस्‍तुप्रतिदानं क्रियते, तत्र उभयत्रापि विद्यमान-''प्रति'' शब्‍दस्‍य योगे पंचमी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 

(प्रतिनिध अर्थ में प्रति से पंचमी)
प्रद्युम्‍न: कृष्‍णात् प्रति ।
प्रद्युम्‍न कृष्‍ण के प्रतिनिधि हैं ।।

(बदलने के अर्थ में प्रति से पंचमी)
तिलेभ्‍य: प्रतियच्‍छति माषान् ।
तिलों से उडद बदलता है ।।

इति

कर्मप्रवचनीयसंज्ञा - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।

चित्र
सूत्रम् - आड्. मर्यादावचने ।। (1/04/89)

मर्यादा (सीमा) अर्थे आड्. (आ) इत्‍यस्‍य कर्मप्रवचनीय संज्ञा भवति ।

हिन्‍दी - मर्यादा (सीमा) के अर्थ में आड्. (आ) की कर्मप्रवचनीय संज्ञा होती है ।

सूत्र -पंचम्‍यपाड्.परिभि: ।।(2/3/10)

अप, परि, आड्. (आ) इत्‍येतेभ्‍य: कर्मप्रवचनीयेभ्‍य: योगे पंचमीविभक्ति: भवति ।

हिन्‍दी - अप, परि, तथा आड्. कर्मप्रवचनीयों के योग में पंचमी विभक्ति होती है ।

उदाहरणम् -

(अप, परि में पंचमी)
अप हरे: संसार: ।
परि हरे: संसार: ।
हरि को छोडकर संसार है अर्थात् जहाँ हरि हैं वहाँ संसार का अस्तित्‍व नहीं है ।

(मर्यादा अर्थ में आ से पंचमी)
आमुक्‍ते: संसार: ।
मुक्ति तक या मुक्ति से पहले संसार है ।

(अभिविधि अर्थ में आ से पंचमी)
आसकलाद् ब्रह्म ।
ब्रह्म सर्वत्र व्‍याप्‍त है ।

इति

अपपरी वर्जने - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

चित्र
सूत्रम् -अपपरी वर्जने ।।

वर्जन (छोडना, अतिरिक्‍त) अर्थेषु अप, परि च उपसर्गयो: कर्मप्रवचनीयसंज्ञा भवति ।

हिन्‍दी - वर्जन (छोडना, अतिरक्ति) अर्थ में अप तथा परि उपसर्गों की कर्मप्रवचनीय संज्ञा होती है ।


इति