संदेश

October, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कृत्‍यानां कर्तरि वा ..... षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - कृत्‍यानां कर्तरि वा ।। 2/3/71 ।। 

कृत्‍य- प्रत्‍ययानां योगे कर्तरि विकल्‍पेन षष्‍ठी विभक्ति:, पक्षे तु तृतीया विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
मया मम वा सेव्‍यो हरि: - हरि मेरा सेव्‍य है । 

हिन्‍दी - 
कृत्‍य प्रत्‍ययों के योग में कर्ता में षष्‍ठी विभक्ति विकल्‍प से होती है किन्‍तु पक्ष में तृतीया विभक्ति होती है ।


इति

अकेनोर्भविष्‍यदाधमर्ण्‍ययो: .... षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - अकेनोर्भविष्‍यदाधमर्ण्‍ययो: ।। 2/3/70 ।।

भविष्‍यत् इति अर्थे प्रयुक्‍त: अक् - प्रत्‍यय:, भविष्‍यत्, आधमर्ण्‍य च (कर्जदार होना) अर्थे प्रयुज्‍यमानै: प्रत्‍ययै: सह षष्‍ठी विभक्ति: न भवति । कर्मणि द्वितीया भवति ।

उदाहरणम् - 
सत: पालको वतरति - सज्‍जनों का पालन करने वाला अवतार लेता है ।
व्रजं गामी - व्रज को जानेवाला । 
शतं दायी - सौ रूपये का देनदार ।

हिन्‍दी - 
भविष्‍यत् अर्थ में होनेवाले अक प्रत्‍यय तथा भविष्‍यत् और आधमर्ण्‍य अर्थ में होनेवाले इन प्रत्‍ययों के षष्‍ठी विभक्ति नहीं होती । कर्म में द्वितीया होती है ।



इति

कमेरनिषेध: .... वार्तिकम् ।।

चित्र
वार्तिकम् - कमेरनिषेध: ।।

उक-प्रत्‍ययान्‍त कम् धातुना सह षष्‍ठी विभक्‍ते: निषेध: नैव भवति ।

उदाहरणम् - 
लक्ष्‍म्‍या: कामुको हरि: - लक्ष्‍मी की कामना करने वाले हरि ।।

अत्र उक-प्रत्‍ययान्‍त-कम् धातो: प्रयोगे लक्ष्‍मी इत्‍यस्मिन् शब्‍दे षष्‍ठी विभक्ति: अभवत् ।

हिन्‍दी - 
उक प्रत्‍ययान्‍त कम् धातु के साथ षष्‍ठी विभक्ति का निषेध नहीं होता है ।

वार्तिकम् - द्विष: शतुर्वा ।।

शतृ-प्रत्‍ययान्‍त द्विष् धातो: योगे षष्‍ठी, द्वितीया च विभक्‍ती भवत: ।

उदाहरणम् - 
मुरस्‍य मुरं वा द्विषन् - मुर नामक राक्षस का द्वेषी । 

हिन्‍दी - 
शत्-प्रत्‍ययान्‍त द्विष् धातु के योग में षष्‍ठी व द्वितीया दोनो विभक्ति होती हैं ।

इति

न लोकाव्‍ययनिष्‍ठाखलर्थतृनाम् ... षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् -न लोकाव्‍ययनिष्‍ठाखलर्थतृनाम् ।। 2/3/69 ।। 

ल (लकारस्‍य स्‍थाने शतृ, शानच्, क्‍वसु, कानच् अादि), उ, उक, अव्‍यय (क्‍त्‍वा, तुमुन्, ल्‍यप् आदि कृत् प्रत्‍ययै: निर्मित-अव्‍यय-शब्‍दा:), निष्‍ठा (क्‍त, क्‍तवतु), खल् प्रत्‍ययानां समानार्थी प्रत्‍ययै: सह अपि च तृन् (प्रत्‍याहार:) इत्‍यनेन सह षष्‍ठी विभक्ति: नैव भवति ।

उदाहरणम् - 
कुर्वन् कुर्वाणो वा सृष्टि हरि: - सृष्टि की रचना करता हुआ हरि । 
हरिं दिदृक्षु: - हरि को देखने का इच्‍छुक । 
हरिम् अलंकरिष्‍णु: - हरि को अलंकृत करनेवाला । 
दैत्‍यान् घातुको हरि: - दैत्‍यों को मारने वाला हरि । 

हिन्‍दी - 
ल, उ, उक, अव्‍यय, निष्‍ठा, खल् प्रत्‍यय के अर्थवाले प्रत्‍यय और तृन् प्रत्‍याहार के योग में षष्‍ठी विभक्ति नहीं होती है ।

इति

स्‍त्रीप्रत्‍यययोरकाराकारयो...... - वार्तिकम् (षष्‍ठी विभक्ति:) ।।

चित्र
वार्तिकम् - स्‍त्रीप्रत्‍यययोरकाराकारयोर्नायं नियम: ।।

स्‍त्रीप्रत्‍ययस्‍य 'अक', 'अ' च कृत्-प्रत्‍ययान्‍त-योगे कर्तरि, कर्मणि च षष्‍ठी विभक्ति: एव भवति । अयं वार्तिकं उभयप्राप्‍तौ... सूत्रमपवारयति ।

उदाहरणम् - 
भेदिका विभित्‍सा वा रुद्रस्‍य जगत: - रुद्र के द्वारा जगत् का विनाश या जगत् के विनाश की इच्‍छा । 

उक्‍त उदाहरणे रुद्र, जगत् च द्वयोरपि षष्‍ठी भूत्‍वा रुद्रस्‍य, जगत: चेति अभवत् ।

हिन्‍दी - 
स्‍त्रीप्रत्‍यय में होने वाले अक और अ कृत् प्रत्‍ययान्‍तों के साथ उभयप्राप्‍तौ... सूत्र का नियम नहीं लगता तदनुसार यदि कृत् प्रत्‍ययान्‍त के योग में कर्ता और कर्म दोनों में षष्‍ठी विभक्ति की प्राप्ति होती है ।

वार्तिकम् - शेषे विभाषा ।।

केषांचनानाम् आचार्याणां मतमस्ति यत् अक अ च प्रत्‍ययभिन्‍नस्‍त्रीलिंग-कृत्-प्रत्‍ययै: सह विकल्‍पेन षष्‍ठी विभक्ति: भवति ।


उदाहरणम् - 
विचित्रा जगत: कृतिहरेर्हरिणा वा - हरि के द्वारा की गई यह जगत् की रचना विचित्र है । 
शब्‍दानामनुशासनमाचार्येणाचार्यस्‍य - आचार्य के द्वारा शब्‍दों का अनुशासन ।

हिन्‍दी -
कुछ आचार्यों का मत है कि अक और अ प्रत्‍यय से भिन…

अधिकरणवाचिनश्‍च - षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - अधिकरणवाचिनश्‍च ।। 2/3/68 ।।

अधिकरणवाचक क्‍त प्रत्‍ययस्‍य योगे षष्‍ठी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् -
इदमेषाम् आसितं शयितं गतं भुक्‍तं वा - यह इनका आसन, इनकी शय्या, इनका मार्ग या इनका भोजन का पात्र है ।

हिन्‍दी - 
अधिकरणवाचक क्‍त प्रत्‍यय के योग में षष्‍ठी विभक्ति होती है ।

इति

क्‍तस्‍य च वर्तमाने .... षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - क्‍तस्‍य च वर्तमाने ।। 2/3/67 ।। 

वर्तमानार्थे सति क्‍त प्रत्‍ययेन सह षष्‍ठी विभक्ति: भवति । इत्‍युक्‍ते यदा क्‍त प्रत्‍ययस्‍य प्रयोग: वर्तमानकालार्थे भवति तदा तेन सह षष्‍ठी विभक्‍ते: प्रयोग: भवति ।

उदाहरणम् - 
राज्ञां मतो बुद्ध: पूजितो वा - राजा मुझे मानते हैं, जानते हैं या पूजते हैं । 

हिन्‍दी - 
वर्तमान अर्थ में होनेवाले क्‍त प्रत्‍यय के साथ षष्‍ठी विभक्ति होती है ।
उक्‍त उदाहरण में वर्तमान अर्थ में मन्, बुध्, और पूज धातुओं से क्‍त प्रत्‍यय है अत: षष्‍ठी विभक्ति का प्रयोग हुआ ।।

इति

उभयप्राप्‍तौ कर्मणि .... षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - उभयप्राप्‍तौ कर्मणि ।। 2/3/66 ।।

कृत्-प्रत्‍ययान्‍तस्‍य योगे यत्र कर्ता-कर्मश्‍च उभयोरपि षष्‍ठी प्राप्‍यते तत्र केवलं कर्मणि एव षष्‍ठी भवति, कर्तरि न ।

उदाहरणम् - 
आश्‍चर्यो गवां दोहो गोपेन - अगोप के द्वारा गायों का दुहा जाना आश्‍चर्य की बात है । 

टिप्‍पणम् - अत्र 'दोह:' कृदन्‍तस्‍य योगे कर्ता 'अगोप' इत्‍यस्मिन् कर्म 'गो' च द्वयोरपि षष्‍ठी प्राप्‍यमान: आसीत् किन्‍तु अनेन सूत्रेण कर्तु: षष्‍ठी निराकृता केवलं कर्मणि षष्‍ठी योजिता इति ।

हिन्‍दी - 
कृत् प्रत्‍ययान्‍त के योग में जहाँ कर्ता और कर्म दोनों में षष्‍ठी प्राप्‍त होती है, वहाँ पर केवल कर्म में ही षष्‍ठी हो, कर्ता में नहीं ।
 टिप्‍पणी - उक्‍त उदाहरण में दोह: कृदन्‍त के योग में कर्ता अगोप में षष्‍ठी प्राप्‍त हो रही थी तथा कर्म गो में भी षष्‍ठी प्राप्‍त थी अत: उक्‍त सूत्र से केवल कर्म में षष्‍ठी हुई और कर्ता में षष्‍ठी का निराकरण हो गया ।



इति

कर्तृकर्मणो: कृति - षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम्- कर्तृकर्मणो: कृति ।। 2/3/65 ।।

कृत् - प्रत्‍ययान्‍त शब्‍दानां योगे तेषां कर्तरि, कर्मणि च षष्‍ठीविभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
कृष्‍णस्‍य कृति: - कृष्‍ण का कार्य । 
जगत: कर्ता कृष्‍ण: - जगत के कर्ता श्री कृष्‍ण (कृष्‍ण ने संसार को बनाया) ।

वार्तिकम् - गुणकर्मणि वेष्‍यते ।। 

कृत् - प्रत्‍ययान्‍त द्विकर्मक धातूनां योगे गौणकर्मणि षष्‍ठी विभक्ति: विकल्‍पेन भवति ।

उदाहरणम् - 
नेता श्‍वस्‍य स्रुघ्‍नस्‍य स्रुघ्‍नं वा - घोडे को स्रुघ्‍न देश में ले जाने वाला । 

टिप्‍पणम् - 
नी धातु: द्विकर्मकं तर्हि नेता इत्‍यस्‍य मुख्‍यकर्मणि (अश्‍व) नित्‍य षष्‍ठी, गौण कर्मणि (स्रुघ्‍न) विकल्‍पेन षष्‍ठी । पक्षे तु द्वितीया ।

हिन्‍दी - 
सूत्र - कृत् - प्रत्‍ययान्‍त शब्‍दों के योग में उनके कर्ता और कर्म में षष्‍ठी विभक्ति होती है ।

वार्तिक - कृत् - प्रत्‍ययान्‍त द्विकर्मक धातुओं के योग में गौण कर्म में विकल्‍प से षष्‍ठी विभक्ति होती है । उक्‍त उदाहरण में नी धातु द्विकर्मक है अत: नेता शब्‍द के मुख्‍य कर्म अश्‍व में नित्‍य षष्‍ठी और गौण कर्म स्रुघ्‍न में विकल्‍प से षष्‍ठी । पक्ष में द्वितीया विभक्ति हुई।

इति

कृत्‍वोSर्थप्रयोगे... षष्ठी विभक्तिः ||

चित्र
सूत्रम् - कृत्‍वोSर्थप्रयोगे कालेSधिकरणे ।। 2/3/64 ।।

      कृत्‍वसुच् (कृत्‍व:) तथा च अस्‍य समानार्थी अन्‍येषां प्रत्‍ययाणां योगे कालवाचि-अधिकरणे सम्‍बन्‍धमात्रस्‍य विवक्षायां षष्‍ठी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
पंचकृत्‍वोSह्नो भोजनम् - दिन में पांच बार भोजन । 
द्विरहो भोजनम् - दिन में दो बार भोजन । 

हिन्‍दी - 
     कृत्‍वसुच् तथा इस अर्थवाले अन्‍य प्रत्‍ययों के योग में कालवाचक अधिकरण में सम्‍बन्‍धमात्र की विवक्षा में षष्‍ठी होती है ।


इति

प्रेष्‍यब्रुवोर्हविषो ... षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - प्रेष्‍यब्रुवोर्हविषो देवतासम्‍प्रदाने ।। 2/3/61 ।।

प्रेष्‍य, ब्रूहि च शब्‍दयो: कर्म यदा हविष्‍यवाचकं स्‍यात् अथ च देवस्‍य कृते देय: भवतु चेत् हवि-वाचक शब्‍देन सह षष्‍ठी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
अग्‍नये छागस्‍य हविषो वपाया मेदस: प्रेष्‍य अनुब्रहि वा - अग्नि देवता के लिये छाग की वपा और मेदस् रूप हवि को प्रेषित करो या समर्पि‍त करो ।।

हिन्‍दी - 
प्रेष्‍य तथा ब्रूहि शब्‍दों के कर्म यदि हविष्‍यवाचक हों और देवता के लिये हविष्‍य देय हो तो हवि-वाचक शब्‍द से षष्‍ठी विभक्ति होती है ।

इति

विभाषोपसर्गे - षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - विभाषोपसर्गे ।। 2/3/59 ।।

उपसर्ग सहितं दिव् धातु: यदि द्यूतार्थे उत क्रयणं-विक्रयणार्थे भवति चेत् दिव् इत्‍यस्‍य कर्मणि षष्‍ठी विभक्ति: विकल्‍पेन भवति ।

उदाहरणम् - 
शतस्‍य शतं वा प्रतिदीव्‍यति - सौ रूपये दांव पर लगाता है अथवा सौ रूपये का लेन देन करता है । 

हिन्‍दी - 
उपसर्ग सहित दिव् धातु यदि द्यूत अथवा क्रय विक्रय अर्थ में प्रयुक्‍त होती है तो दिव् धातु के कर्म में विकल्‍प से षष्‍ठी विभक्ति होगी ।

इति

दिवस्‍तदर्थस्‍य - षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - दिवस्‍तदर्थस्‍य ।। 2/3/58 ।।

द्यूतम्, क्रयणं-विक्रयणम् इत्‍ययो: अर्थे दिव् धातो: कर्मणि षष्‍ठी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
शतस्‍य दीव्‍यति - सौ रूपये का दांव लगाता है / सौ रूपये का लेन-देन करता है । 

हिन्‍दी - 
द्यूत और क्रय-विक्रय करना अर्थ में दिव् धातु के कर्म में द्वितीया विभक्ति होती है ।।

इति

व्यवहृपणोः समर्थयोः - षष्‍ठी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् – व्यवहृपणोः समर्थयोः ।। २ ⁄ ३ ⁄  ५७ ।।
समानार्थी व्यवहृ‚ पण् च धात्वोः कर्मणि सम्बन्धमात्रस्य विवक्षायां षष्ठी विभक्तिः भवति ।

उदाहरणम् –
शतस्य व्यवहरणं पणनं वा – सौ रूपये का लेन–देन अथवा सौ रूपये का जुआ खेलना ।

हिन्दी – समान अर्थ वाली व्यवहृ तथा पण् धातुओं के कर्म में सम्बन्ध मात्र की विवक्षा होने पर षष्ठी विभक्ति होती है । क्रय विक्रय तथा जुआ खेलना दोनो धातुएं समान अर्थ वाली हैं ।

इति

जासिनिप्रहणनाटक्राथपिषां。。 - षष्ठी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् – जासिनिप्रहणनाटक्राथपिषां हिंसायाम् ।। २ ⁄ ३ ⁄ ५६ ।।
हिंसार्थ 'जासि धातुः‚ नि + प्र + हन् धातुः‚ नाटि धातुः‚ क्राथ् धातुः‚ पिष् धातुः च' एतेषां धातूनां कर्मणि सम्बन्धमात्रस्य विवक्षायां षष्ठी विभक्तिः भवति ।।

उदाहरणम् – चौरस्योज्जासनम् – चोर को पीटना ।
चौरस्य निप्रहणम्‚ प्रहणनम्‚ निहननम्‚ प्रणिहननम् वा – चोर को पीटना ।
चौरस्य क्राथनम् – चोर को पीटना ।
चौरस्योन्नाटनम् – चोर को मारना ।
वृषलस्य पेषणम् – शूद्र को पीस डालना (बहुत अधिक पीटना) ।
हिन्दी – हिंसा अर्थ वाली जासि‚  नि + प्र + हन् ‚ नाटि‚ क्राथ् तथा पिष् धातुओं के कर्म में सम्बन्धमात्र की विवक्षा होने पर षष्ठी विभक्ति होती है । अवधेय है कि हन् धातु के पहले चाहे नि उपसर्ग आवे अथवा प्र उपसर्ग आवे अथवा दोनों ही उपसर्ग किसी भी क्रम में आवें यदि हिंसा अर्थ में प्रयोग होगा तो षष्ठी विभक्ति होगी ।

इति

आशिषि नाथः – षष्ठी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् – आशिषि नाथः ।।२ ⁄ ३ ⁄ ५५ ।।
ʺआशीर्वादʺ अर्थे ʺनाथ्ʺ धातुना सह सम्बन्धमात्रस्य विवक्षायां षष्ठी विभक्तिः भवति ।

उदाहरणम् – सर्पिषो नाथनम् – घी के लिये आशीर्वाद (घी मुझे प्राप्त हो‚ यह आशीर्वाद मिले) ।
अत्र आशीर्वाद अर्थे "सर्पिषः" इत्यस्मिन् षष्ठी विभक्तिः अभवत् ।।

हिन्दी – आशीर्वाद अर्थ में नाथ् धातु के साथ सम्बन्धमात्र की विवक्षा होने पर षष्ठी विभक्ति होती है ।


इति

रुजार्थानां भाववचनानामज्वरेः - षष्ठी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् – रुजार्थानां भाववचनानामज्वरेः ।। २⁄३⁄५४ ।।

ʺज्वरिʺ धातुं विहाय अन्यरोगवाचकधातुभ्यः कर्मणि सम्बन्धमात्रस्य विवक्षायां षष्ठी विभक्तिः भवति‚ यदि तेषां कर्ता भाववाचकं स्यात् ।

उदाहरणम् –
चौरस्य रोगस्य रुजा – चोर को रोग की पीड़ा है ।

टिप्पणम् – ʺरोगʺ इति भाववाचकशब्दः अस्ति ʺरूजाʺ इत्यस्य कर्ता चाप्यस्ति अतः षष्ठी अभवत् ।

वार्तिकम् – अज्वरिसन्ताप्योरिति वाच्यम्
ʺज्वरिʺ‚ ʺसन्तापिʺ च द्वौSपि धातू विहाय इत्याशयः भवेत् उक्त सूत्रस्य ।

उदाहरणम् –
रोगस्य चौरज्वरः चौरसन्तापो वा – रोग से चोर को ज्वर है या चोर को संताप है ।

टिप्पणम् – अत्र उपर्युक्तेन सूत्रेण षष्ठी नैवाभवत् अपितु षष्ठी शेषे सूत्रेण अभवत् यतोSहि ʺज्वरʺ‚ ʺसन्तापʺ च धातू स्तः ।

हिन्दी –
सूत्र – ज्वरि धातु को छोड़कर अन्य रोगवाचक धातुओं के कर्म में सम्बन्धमात्र की विवक्षा होने पर षष्ठी होती है‚ यदि उनका कर्ता भाववाचक हो ।

वार्तिक – सूत्र में ज्वरि और सन्तापि धातु को छोड़कर आशय समझना चाहिये ।


इति

कृञ: प्रतियत्ने - षष्‍ठी विभक्तिः ||

चित्र
कृञ: प्रतियत्ने ।। २/३/५३

कृ धातोः कर्मणि सम्‍बन्‍धमात्रस्‍य विवक्षायां गुणाधान-अर्थे षष्‍ठी विभक्तिः भवति, प्रतियत्‍नः इत्‍युक्‍ते गुणाधानम् उत नवीनगुणानाम‍स्‍थापनम् ।

हिन्‍दी - कृ धातु के कर्म में सम्‍बन्धमात्र की विवक्षा में गुणाधान के अर्थ में षष्‍ठी विभक्ति होती है । प्रतियत्‍न का अर्थ गुणाधान अथवा गुण की स्‍थापना करना है ।।



इति

अधीगर्थदेयेशां ... षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - अधीगर्थदयेशां कर्मणि ।। 2-3-52 ।।

अधि इ (इक् स्‍मरणे), अन्‍य-स्‍मरणार्थक धातव:, दय् (देना, दया करना), ईश् (स्‍वामी होना) धातुभ्‍य: कर्मणि सम्‍बन्‍धमात्र-विवक्षायां षष्‍ठी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् -
मातु: स्‍मरणम् - माता का स्‍मरण ।
सर्पिष ईशनम् - घी का स्‍वामी होना ।
सर्पिषो दयनम् - घी का दान देना ।

हिन्‍दी -
अधि इक व अन्‍य स्‍मरण अर्थ वाली धातुएं, दय् धातु, तथा ईश् धातु के कर्म में सम्‍बन्‍ध मात्र की विवक्षा होने पर षष्‍ठी विभक्ति का प्रयोग होता है ।

इति

ज्ञोSविदर्थस्य करणे 。。 षष्ठी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् – ज्ञोSविदर्थस्य करणे (०२⁄ ०३⁄ ५१) ।।

ʺज्ञाʺ धातुः यदा अविदर्थे इत्युक्ते ज्ञानार्थे न भवति‚ तदा तस्य करणे सम्बन्धस्य विवक्षायां षष्ठी विभक्तिः भवति ।

उदाहरणम् – 
सर्पिषो ज्ञानम् – घृत के कारण होनेवाली प्रवृत्ति ⁄ घृतसम्बन्धी प्रवृत्ति ।


हिन्दी – 
ज्ञा धातु का प्रयोग जब ज्ञान के प्रयोग में न होकर अन्य अर्थ में हो तब उसके करण में सम्बन्ध की विवक्षा होने पर षष्ठी विभक्ति होगी ।

इति

दूरान्तिकार्थै: .... षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - दूरान्तिकार्थै:षष्‍ठ्यन्‍यतरस्‍याम् (2/3/34)

 'दूरम्', 'निकटम्' च अर्थयुक्‍तै: शब्‍दै: सह षष्‍ठी विभक्ति:, पंचमी विभक्ति: च भवति ।

उदाहरणम् - 
दूरं निकटं ग्रामस्‍य ग्रामात् वा - गांव से दूर या समीप ।

हिन्‍दी - 
दूर तथा निकट अर्थवाले शब्‍दों के साथ षष्‍ठी विभक्ति तथा पंचमी विभक्ति होती है ।



इति