कृत्‍यानां कर्तरि वा ..... षष्‍ठी विभक्ति: ।।


सूत्रम् - कृत्‍यानां कर्तरि वा ।। 2/3/71 ।। 

कृत्‍य- प्रत्‍ययानां योगे कर्तरि विकल्‍पेन षष्‍ठी विभक्ति:, पक्षे तु तृतीया विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
मया मम वा सेव्‍यो हरि: - हरि मेरा सेव्‍य है । 

हिन्‍दी - 
कृत्‍य प्रत्‍ययों के योग में कर्ता में षष्‍ठी विभक्ति विकल्‍प से होती है किन्‍तु पक्ष में तृतीया विभक्ति होती है ।


इति

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

अव्यय पदानि ।।

शरीरस्‍य अंगानि

क्रीड् (खेलना) धातु: - परस्‍मैपदी