संदेश

November, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

विभाषा कृ‍ञि .... सप्‍तमी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् - विभाषा कृ‍ञि ।। 1/4/98 ।। 
(अधिकरण कारकम्) 

कृ धातु: अनन्‍तरं सन्‍तं स्‍व-स्वामि-भाव सम्‍बन्‍धार्थे 'अधि' इत्‍यस्‍य विकल्‍पेन कर्मप्रवचनीया संज्ञा भवति । कर्मप्रवचनीय: सन् द्वितीया विभक्ति: प्रयुज्‍ज्‍यते ।

उदाहरणम् - 
यदत्र मामधिकरिष्‍यति - क्‍योंकि मुझे यहाँ नियुक्‍त करेगा । 

हिन्‍दी - 
कृ धातु बाद में होने पर स्‍व-स्‍वामि-भाव सम्‍बन्‍ध अर्थ में 'अधि' की विकल्‍प से कर्मप्रवचनीय संज्ञा होगी तदनुसार द्वितीया विभक्ति का विधान होगा ।

इति

अधिरीश्‍वरे ... सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - अधिरीश्‍वरे ।। 1/4/97 ।। 
(अध्‍ािकरण कारकम्) 

स्‍व (वस्‍तु), स्‍वामी (अधिकारी, मालिक) च अर्थप्रकटने 'अधि' इत्‍यस्‍य कर्मप्रवचनीया संज्ञा भवति ।

हिन्‍दी - 
स्‍व और स्‍वामी के अ‍र्थ को प्रकट करने में 'अधि' की कर्मप्रवचनीय संज्ञा होती है ।

सूत्रम् - यस्‍मादधिकं यस्‍य चेश्‍वरवचनं तत्र सप्‍तमी ।। 2/3/9 ।। 

'यस्‍मात् अधिकं अस्ति', 'यस्‍य स्‍वामित्‍वं उच्‍यते' एतयो: अर्थयो: कर्मप्रवचनीय योगे सप्‍तमी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
उप परार्धे ह‍रेर्गुणा: - हरि के गुण परार्ध से भी अधिक हैं । 
अधि भुवि राम: - राम पृथ्‍वी के स्‍वामी हैं । 
अधि रामे भू: - पृथ्‍वी राम के स्‍वामित्‍व में है । 

हिन्‍दी - 
'जिससे अधिक है' तथा 'जिसका स्‍वामित्‍व कहा जाता है' इन दोनों अर्थों में कर्मप्रवचनीय के योग में सप्‍तमी होती है ।

परार्ध - परार्ध सबसे बडी संख्‍या है । इससे बढकर कोई संख्‍या नहीं होती ।


इति

सप्‍तमीपंचम्‍यौ कारकमध्‍ये .... सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - सप्‍तमीपंचम्‍यौ कारकमध्‍ये ।। 2/3/7 ।। 
(अधिकरण कारकम्)

यदा कश्चित् कालवाचिका, मार्गस्‍य दूरीवाचिका च संज्ञा द्वाभ्‍यां कारकशक्तिभ्‍यां मध्‍ये भवति चेत् कालवाचक-मार्गवाचकशब्‍दयो: सप्‍तमी, पंचमी च विभक्‍ती भवत: ।

उदाहरणम् - 
अद्य भुक्‍त्‍वा अयं द्वयहे द्वयहाद् वा भोक्‍ता - यह आज खाकर दो दिन बाद खाएगा । 

अत्र अद्यतनीय: भोक्‍ता, दिनद्वयस्‍यानन्‍तरं च भोक्‍ता सैव एक: अस्ति पुनश्‍च द्वाभ्‍यां शक्‍तीभ्‍यां च मध्‍ये दिनद्वयस्‍य कालमस्ति अत: सप्‍तमी पंचमी च विभ‍क्‍ती भवत: ।

हिन्‍दी - 
जब कोई कालवाचक व मार्ग की दूरीवाचक संज्ञा दो कारक-शक्तियों के बीच में होती है तब काल व मार्गवाचक शब्‍दों में पंचमी तथा सप्‍तमी दोनों ही विभक्तियाँ होती हैं ।

उक्‍त उदाहरण में आज खानेवाला तथा दो दिन बाद खानेवाला कर्ता एक ही है तथा उसकी दो शक्तियों के बीच में दो दिन के काल का वर्णन है

इति

नक्षत्रे च लुपि ... सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - नक्षत्रे च लुपि ।। 2/3/45 ।।
(अधिकरण कारकम्)

नक्षत्रवाचकशब्‍दात् अणप्रत्ययस्‍य लोप: सन् यदा प्रत्‍ययस्‍यार्थ: तद्वदेवस्‍थीयते चेत् तेन नक्षत्रवाचकशब्‍देन अधिकरणे तृतीया सप्‍तमी च विभक्‍ती भवत: ।

उदाहरणम् -
मूलेनावाहयेद् देवीं श्रवणेन विसर्जयेत् । मूले श्रवणे इति वा ।
( मूल नक्षत्र से युक्‍त काल में देवी का आवाहन करे और श्रवण नक्षत्र से युक्‍त काल में देवी का विसर्जन करें । )

हिन्‍दी - 
नक्षत्रवाचक शब्‍द से अण् प्रत्‍यय का लोप होने पर जब प्रत्‍यय का अर्थ विद्यमान रहता है तब उस से अधिकरण में तृतीया तथा सप्‍तमी विभक्ति होती है ।


इति

प्रसितोत्‍सुकाभ्‍यां तृतीया च ... सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - प्रसितोत्‍सुकाभ्‍यां तृतीया च ।। 2/3/44 ।।
(अधिकरण कारकम्)

प्रसित (तत्‍पर), उत्‍सुक च शब्‍दाभ्‍यां योगे तृतीया सप्‍तमी च विभक्‍ती भवत: ।

उदाहरणम् - 
प्रसित उत्‍सुको वा हरिणा हरौ वा - हरि में तल्‍लीन या हरि में तत्‍पर । 

हिन्‍दी - 
प्रसित (तत्‍पर) तथा उत्‍सुक शब्‍दों के योग में तृतीया तथा सप्‍तमी विभक्ति होती है ।

इति

अप्रत्‍यादिभिरिति ... वार्तिकम् - सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
वार्तिकम् - अप्रत्‍यादिभिरिति वक्‍तव्‍यम् ।।

साधुनिपुणाभ्‍यां सूत्रे अप्रते: (प्रति - भिन्‍न) इति न उक्‍त्‍वा अप्रत्‍यादिभि: (प्रति, परि, अनु से भिन्‍न) इति वक्‍तव्‍य: आसीत् ।।


उदाहरणम् -
साधुर्निपुणो वा मातरं प्रति, परि, अनु वा ।। 

अत्र प्रति, परि, अनु कारणात् सप्‍तमी नाभवत् अपितु लक्षणेत्‍थं.. सूत्रेण कर्मप्रवचनीयसंज्ञा सन् द्वितीया अभवत् ।

हिन्‍दी - 
साधुनिपुणाभ्‍यां सूत्र में अप्रते: (प्रति - भिन्‍न) न कहकर अप्रत्‍यादिभि: (प्रति, परि, अनु से भिन्‍न) कहना चाहिए ।

इति

साधुनिपुणाभ्‍यां ...... सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - साधुनिपुणाभ्‍यामर्चायां सप्‍तम्‍यप्रते:।। 2/3/43 ।।
( अधिकरण कारकम् )

साधु, निपुण च शब्‍दौ यदा पूजा (आदर) अर्थे भवत: तदा तेभ्‍यां सह सप्‍तमी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
मातरि साधुर्निपुणो वा - माता के प्रति सज्‍जन या माता की सेवा में निपुण ।। 

हिन्‍दी - 
साधु तथा निपुण शब्‍दों का प्रयोग जब पूजा (आदर) अर्थ में हो तो इन दोनों के साथ सप्‍तमी विभक्ति होती है ।


इति

पंचमी विभक्‍ते ... सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - पंचमी विभक्‍ते ।। 2/3/42 ।।
( अधिकरण कारकम् )
द्वाभ्‍यां तुलनायां यस्‍मात् विभेद:, विशेषणं वा उच्‍यते तस्मिन् पंचमी विभक्ति: भवति । विभक्‍त इत्‍युक्‍ते विभाग:, भेद: वा ।

उदाहरणम् - 
माथुरा: पाटलिपुत्रकेभ्‍य: आढ्यतरा: - मथुरावासी पटना के लोगों से अधिक ध्‍ानी हैं ।

हिन्‍दी - 
दो चीजों की तुलना में जिससे विशेषता या विभेद बतलाया ताजा है उससे पंचमी विभक्ति होती है ।

इति

यतश्च निर्धारणम् 。。。 सप्तमी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् – यतश्च निर्धारणम् ।। 2 ⁄  3 ⁄ 41 ।।
(अधिकरण कारकम् )

जाति‚ गुण‚ क्रिया‚ संज्ञा एतेषां विशेषताधारेण कस्यचित् कस्माचित् समुदायात् पृथक्करणं (आवंटनम्) इत्युच्यते । यस्मात् किमपि निर्धार्यते तस्मिन् षष्ठी उत सप्तमी विभक्तिः भवति ।

उदाहरणम् – 
नृणां नृषु वा ब्राह्मणः श्रेष्ठः – मनुष्यों में ब्राह्मण श्रेष्ठ है ।
गवां गोषु वा कृष्णा बहुक्षीरा – गायों में काली गाय अधिक दूध देती है ।
गच्छतां गच्छत्सु वा धावन् शीघ्रः – चलनेवालों में दौड़ने वाला शीघ्र जाता है ।
छात्राणां छात्रेषु वा मैत्रः पटुः – छात्रों में मैत्र चतुर है । 

हिन्दी – 
जाति‚ गुण‚ क्रिया‚ संज्ञा की विशेषता के आधार पर किसी एक को अपने समुदाय से पृथक् करने को निर्धारण या छाँटना कहते हैं । जिसमें से निर्धारण किया जाए उसमें षष्ठी तथा सप्तमी दोनों विभक्तियाँ होती हैं ।


इति

आयुक्‍तकुशलाभ्‍यां चासेवायाम् - सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - आयुक्‍तकुशलाभ्‍यां चासेवायाम् ।। 2/3/40 ।।

तत्‍पर उत नियुक्‍त - अर्थे आयुक्‍त, कुशल च शब्‍दाभ्‍यां सह षष्‍ठी सप्‍तमी च विभक्‍ती योज्‍यते । आयुक्‍त इत्‍युक्‍ते नियोजनम् ।

उदाहरणम् - 
आयुक्‍त: कुशलो वा हरिपूजने हरिपूजनस्‍य वा - हरिपूजन में संलग्‍न या निपुण ।।

हिन्‍दी - 
तत्‍पर तथा नियुक्‍त अर्थ में आयुक्‍त और कुशल शब्‍दों के साथ षष्‍ठी तथा सप्‍तमी विभक्ति होती है ।

इति

स्वामीश्वराधिपतिदायाद 。。。 सप्तमी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् – स्वामीश्वराधिपतिदायादसाक्षिप्रतिभूप्रसूतैश्च ।। २ ⁄ ३ ⁄ ३९ ।।

स्वामी‚ ईश्वरः‚ अधिपतिः‚ दायादः‚ साक्षी‚ प्रतिभू‚ प्रसूत च सप्तशब्दानां योगे षष्ठी सप्तमी च विभक्ती भवतः ।

उदाहरणम् – 
गवां गोषु वा स्वामी – गायों का स्वामी ।
गवां गोषु वा प्रसूतः – गायों में उत्पन्न ।


हिन्दी – 
स्वामी‚ ईश्वर‚ अधिपति‚ दायाद‚ साक्षी‚ प्रतिभू और प्रसूत इन सात शब्दों के योग में षष्ठी तथा सप्तमी दोनों विभक्तियां होती हैं ।

इति

षष्‍ठी चानादरे .... सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - षष्‍ठी चानादरे ।। 2/3/38 ।। 

अनादरस्‍य आधिक्‍यप्रकटने यया क्रियया अन्‍यक्रियाया: सूचना प्राप्‍यते तस्मिन् षष्‍ठी, सप्‍तमी च विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
रुदति रु‍दतो वा प्राव्राजीत् - रोते हुए पुत्र आदि को छोडकर सन्‍यास ले लिया । 

अत्र रोदनक्रियया प्रव्रजनक्रिया लक्षिता भवति ।

हिन्‍दी - 
अनादर की अधिकता प्रकट करने में जिसकी क्रिया से दूसरी क्रिया सूचित होती है उसमें षष्‍ठी तथा सप्‍तमी विभक्तियां दोनों ही होती हैं ।

इति

अर्हाणां कर्तृत्‍वे.... सप्‍तमी विभक्ति: - वार्तिकम्

चित्र
वार्तिकम् - अर्हाणां कर्तृत्‍वे नर्हाणामकर्तृत्‍वे तद्वैपदीत्‍ये च ।। 

अर्ह (योग्‍य) इत्‍यस्‍य कर्तृत्‍वज्ञापनाय, अनर्ह (अयोग्‍य) इत्‍यस्‍य अकर्तृत्‍वं ज्ञापनाय उत अस्‍य विपरीतकार्यं बोधितुं कर्ता, बोधकक्रिया च उभयो: सप्‍तमी विभक्ति: ।

उदाहरणम् - 
सत्‍सु तरत्‍सु असन्‍त आसते - जब सज्‍जन तैरते हैं तब असज्‍जन बैठे रहते हैं 
असत्‍सु तरत्‍सु सन्‍तस्तिष्‍ठन्ति - असज्‍जनों तैरते हैं तो सज्‍जन बैठे रहते हैं ।

सत्‍सु, तरत्‍सु च शब्‍दयों: सप्‍तमी विभक्ति: ।

हिन्‍दी -
अर्ह के कर्तृत्‍व व अनर्ह के अकर्तृत्‍व अथवा अर्ह के अकर्तृत्‍व तथा अनर्ह के कर्तृत्‍व को बतलाने में सप्‍तमी विभक्ति का प्रयोग होता है ।



इति

यस्‍य च भावेन भावलक्षणम् .. सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - यस्‍य च भावेन भावलक्षणम् ।। 2/3/37 ।।

यया क्रियया अन्‍यक्रियाया: स्थिति: सूचित: भवति तस्‍यां क्रियायां तस्‍या: कर्तु:, कर्मणि च  सप्‍तमी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
गोषु दुह्यमानासु गत: - जब गायें दुही जा रहीं थीं तब वह गया । 

अत्र गो इति कर्मणि विद्यमाना दोहन-क्रियया गमनक्रिया लक्षिता अभवत् अत: उक्‍तसूत्रेण सप्‍तमी विभक्तिरभव‍त् ।।

हिन्‍दी - 
जिस क्रिया से अन्‍य क्रिया का होना लक्षित होता है उस क्रिया तथा उसके कर्ता और कर्म में सप्‍तमी विभक्ति होती है ।



इति

निमित्‍तात् कर्मयोगे - वार्तिकम् - सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
वार्तिकम् - निमित्‍तात् कर्मयोगे ।। 

यदि फलवाचक निमित्‍तशब्‍दस्‍य कर्मणा सह संयोग उत समवायसम्‍बन्‍ध: भव‍ति चेत् निमित्‍त (फलवाचक) शब्‍देन सह सप्‍तमी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
चर्मणि द्वीपिनं हन्ति, दन्‍तयोर्हन्ति कुंजरम् । 
केशेषु चमरीं हन्ति, सीम्नि पुष्‍कलको हत: ।। (महाभाष्‍यम्) 

चर्मणि द्वीपिनं हन्ति - चमडे के लिये बाघ को मारता है । 
दन्‍तयोर्हन्ति कुंजरम् - दांतों के लिये हांथी को मारता है । 
केशेषु चमरीं हन्ति - बालों के लिये चमरी हिरण को मारता है । 
सीम्नि पुष्‍कलको हत: - अण्‍डकोश में विद्यमान कस्‍तूरी के लिये कस्‍तूरी मृग को मारता है । 

हिन्‍दी - 
यदि फलवाचक निमित्‍त शब्‍द का कर्म के साथ संयोग या समवाय सम्‍बन्‍ध हो तो निमित्‍त वाचक (फलवाचक) शब्‍द के साथ सप्‍तमी विभक्ति होती है ।

इति

क्‍तस्‍येन्विषयस्‍यकर्मण्‍युपसंख्‍यानम् - वार्तिकम् - सप्‍तमी विभक्ति: ।।

चित्र
वार्तिकम् - क्‍तस्‍येन् विषयस्‍यकर्मण्‍युपसंख्‍यानम् ।।
क्‍त-प्रत्‍ययान्‍त शब्‍दै: सह इन्-प्रत्‍ययानां संयोगेन निर्मितानां शब्‍दानां कर्मणि सप्‍तमी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् - 
अधीती व्‍याकरणे - जिसने व्‍याकरण पढ लिया हो ।

अधीती क्‍त प्रत्‍ययेन सह इन् प्रत्‍ययान्‍त: शब्‍द: अस्ति अत: अत्र सप्‍तमी यो‍जिता ।

हिन्दी - 
क्‍त प्रत्‍ययान्‍त शब्‍दों से इन् प्रत्‍ययों के योग से बने हुए शब्‍दों के कर्म में सप्‍तमी विभक्ति होती है ।
वार्तिकम् - साध्‍वसाधुप्रयोगे च ।।
साधु असाधु च शब्‍दाभ्‍यां सह सप्‍तमी विभक्ति: प्रयुज्‍यते ।

उदाहरणम् - 
साधु: कृष्‍णो मातरि - कृष्‍ण माता के लिये भला है । 
असाधु: कृष्‍णो मातुले - कृष्‍ण मामा के लिये बुरा है । 

साधु शब्‍दकारणात् मातरि इत्‍यस्मिन् सप्‍तमी अभवत् तथा असाधुप्रयोगे मातुले सप्‍तमी जाता ।।

हिन्‍दी - 
साधु और असाधु शब्‍दों के साथ सप्‍तमी विभक्ति का प्रयोग होता है ।

इति

आधारोSधिकरणम् 。。。सप्तमी विभक्तिः ।।

चित्र
सूत्रम् – आधारोSधिकरणम् ।। १⁄४⁄४५ ।।
कर्तुः कर्मणः च सम्बद्ध–क्रियायाः आधारः अधिकरणम् इति उच्यते । अधिकरणं साक्षात् क्रियायाः आधारः न भवति अपितु कर्त्रा‚ कर्मणा च भवति । सरलरूपेण वदामः चेत् क्रियायाः आधारः अधिकरणम् उच्यते ।


हिन्दी – 
कर्ता और कर्म से सम्बद्ध क्रिया के आधार को अधिकरण कहते हैं । अधिकरण साक्षात् क्रिया का आधार नहीं होता अपितु कर्ता और कर्म के द्वारा क्रिया का आधार होता है ।


सूत्रम् – सप्तम्यधिकरणे च ।। २⁄३⁄३६ ।।
अधिकरणे सप्तमी भवति । च इति शब्देन दूरवाची‚ निकटवाची च शब्दयोः अपि सप्तमी विभक्तिः भवति ।

औपश्लेषिको वैषयिकोSभिव्यापकश्चेत्याधारसि्त्रधा – 

आधारः त्रिधा भवति ।
१– औपश्लेषिक आधारः (संयोग–सम्बन्ध–मूलक–आधारः) – उपश्लेषः इत्युक्ते संयोगसम्बन्धः । औपश्लेषिक इत्युक्ते यत्र कर्ता उत कर्म संयोग सम्बन्धेन आधारे तिष्ठन्ति ।

उदाहरणम् – 
कटे आस्ते – चटाई पर बैठता है ।उपविश्यमाणस्य कर्तुः कटेन सह संयोग सम्बन्धः अति ।

२– वैषयिक आधारः – ( विषयेन सह सम्बद्धः आधारः ) – अस्मिन् आधारेण सह आधेयस्य बौद्धिकसम्बन्धः भवति ।

उदाहरणम् – 
मोक्षे इच्छा अस्ति ।
अस्मिन् मोक्षरूपी आधारेण सह बौद्धिक स…

षष्‍ठी विभक्ति: (सम्‍बन्‍ध:) सम्‍पूर्णम् ।।

चित्र
षष्‍ठी विभक्ति: - सम्‍बन्‍ध: ।।कर्मादीनामपि सम्‍बन्‍ध - षष्‍ठी विभक्ति: ||षष्‍ठी हेतुप्रयोगे - षष्‍ठी विभक्ति: ।।सर्वनाम्नस्तृतीया – षष्ठीविभक्तिः ।।निमित्तपर्यायप्रयोगे ..... - षष्ठी विभक्तिः ।।षष्ठ्यतसर्थप्रत्ययेन – षष्ठी विभक्तिःएनपा द्वितीया - षष्‍ठी विभक्ति: ।।दूरान्तिकार्थै: .... षष्‍ठी विभक्ति: ।।ज्ञोSविदर्थस्य करणे 。。 षष्ठी विभक्तिः ।।अधीगर्थदेयेशां ... षष्‍ठी विभक्ति: ।।कृञ: प्रतियत्ने - षष्‍ठी विभक्तिः ||रुजार्थानां भाववचनानामज्वरेः - षष्ठी विभक्तिः ।।आशिषि नाथः – षष्ठी विभक्तिः ।।जासिनिप्रहणनाटक्राथपिषां。。 - षष्ठी विभक्तिः ।।व्यवहृपणोः समर्थयोः - षष्‍ठी विभक्तिः ।।दिवस्‍तदर्थस्‍य - षष्‍ठी विभक्ति: ।।विभाषोपसर्गे - षष्‍ठी विभक्ति: ।।प्रेष्‍यब्रुवोर्हविषो ... षष्‍ठी विभक्ति: ।।कृत्‍वोSर्थप्रयोगे... षष्ठी विभक्तिः ||कर्तृकर्मणो: कृति - षष्‍ठी विभक्ति: ।।उभयप्राप्‍तौ कर्मणि .... षष्‍ठी विभक्ति: ।।क्‍तस्‍य च वर्तमाने .... षष्‍ठी विभक्ति: ।। अधिकरणवाचिनश्‍च - षष्‍ठी विभक्ति: ।।स्‍त्रीप्रत्‍यययोरकाराकारयो...... - वार्तिकम् (षष्‍ठी विभक्ति:) ।।न लोकाव्‍ययनिष्‍ठाखलर्थतृनाम् ... षष्‍…

चतुर्थी चाशिष्‍यायुष्‍यमद्र ... षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - चतुर्थी चाशिष्‍यायुष्‍यमद्रभद्रकुशलसुखार्थहितै: ।। 2/3/73 ।।

आशीर्वादार्थे आयुष्‍य, मद्र, भद्र, कुशल, सुख, अर्थ, हित च शब्‍दै: सह एतेषां समानार्थी शब्‍दै: सह च विकल्‍पेन चतुर्थी विभक्ति: भविष्‍यति । पक्षे तु षष्‍ठी विभक्ति: भविष्‍यति ।

उदाहरणम् -
आयुष्‍यं चिरंजीवितं कृष्‍णाय कृष्‍णस्‍य वा भूयात् - कृष्‍ण आयुष्‍मान् या चिरंजीवी हों ।।

हिन्‍दी -
आशीर्वाद अर्थ में आयुष्‍य, मद्र, भद्र, कुशल, सुख, अर्थ तथा हित शब्‍दों के समानार्थी शब्‍दों के साथ विकल्‍प से चतुर्थी विभक्ति होती है । पक्ष में षष्‍ठी विभक्ति होती है ।

इति

तुल्‍यार्थैरतुलोपमाभ्‍यां ........ षष्‍ठी विभक्ति: ।।

चित्र
सूत्रम् - तुल्‍यार्थैरतुलोपमाभ्‍यां तृतीयाSन्‍यतरस्‍याम् ।। 1/3/72 ।।

तुला, उपमा च शब्‍दौ त्‍यक्‍त्‍वा अन्‍येषु 'तुल्‍य' समानार्थी शब्‍देषु विकल्‍पेन तृतीया विभक्ति: भवति । पक्षे तु षष्‍ठी विभक्ति: भवति ।

उदाहरणम् -
तुल्‍य: सदृश: समो वा कृष्‍णस्‍य कृष्‍णेन वा - कृष्‍ण के समान ।

हिन्‍दी -
तुला और उपमा शब्‍दों को छोडकर शेष अन्‍य तुल्‍य अर्थवाले शब्‍दों में विकल्‍प से तृतीया विभक्ति तथा पक्ष में षष्‍ठी विभक्ति होती है ।


इति