सप्‍तमीपंचम्‍यौ कारकमध्‍ये .... सप्‍तमी विभक्ति: ।।


सूत्रम् - सप्‍तमीपंचम्‍यौ कारकमध्‍ये ।। 2/3/7 ।। 
(अधिकरण कारकम्)

यदा कश्चित् कालवाचिका, मार्गस्‍य दूरीवाचिका च संज्ञा द्वाभ्‍यां कारकशक्तिभ्‍यां मध्‍ये भवति चेत् कालवाचक-मार्गवाचकशब्‍दयो: सप्‍तमी, पंचमी च विभक्‍ती भवत: ।

उदाहरणम् - 
अद्य भुक्‍त्‍वा अयं द्वयहे द्वयहाद् वा भोक्‍ता - यह आज खाकर दो दिन बाद खाएगा । 

अत्र अद्यतनीय: भोक्‍ता, दिनद्वयस्‍यानन्‍तरं च भोक्‍ता सैव एक: अस्ति पुनश्‍च द्वाभ्‍यां शक्‍तीभ्‍यां च मध्‍ये दिनद्वयस्‍य कालमस्ति अत: सप्‍तमी पंचमी च विभ‍क्‍ती भवत: । 

हिन्‍दी - 
जब कोई कालवाचक व मार्ग की दूरीवाचक संज्ञा दो कारक-शक्तियों के बीच में होती है तब काल व मार्गवाचक शब्‍दों में पंचमी तथा सप्‍तमी दोनों ही विभक्तियाँ होती हैं ।

उक्‍त उदाहरण में आज खानेवाला तथा दो दिन बाद खानेवाला कर्ता एक ही है तथा उसकी दो शक्तियों के बीच में दो दिन के काल का वर्णन है 

इति

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

संस्‍कृतव्‍याकरणम् (समासप्रकरणम्)

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .

अव्यय पदानि ।।

कारक प्रकरणम् (कर्ता, कर्म, करणं च)