संदेश

January, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

बोद्धारो मत्‍सरग्रस्‍ता: ..... नीतिशतकम् ।।

चित्र
बोद्धारो मत्‍सरग्रस्‍ता: प्रभव: स्‍मयदूषिता: । 
अबोधोपहाताश्‍चान्‍ये जीर्णमंगेसुभाषितम् ।।2।।



व्‍याख्‍या - ज्ञातार: द्वेषपूर्णा: सन्ति, प्रभावशालिन: दर्पचूर्णा: सन्ति एतयो: अतिरिक्‍तं ये के पि अवशिष्‍टा: सन्ति ते तु अज्ञानान्‍धकारे निमज्जिता: सन्ति अत: सम्‍प्रति सुभाषितं पूर्णरूपेण जीर्णत्‍वं प्राप्‍नोति़ ।


हिन्‍दी - जानकार (विद्वान) द्वेषयुक्‍त हो चुके हैं, प्रभावशाली लोग घमण्‍डी हो चुके हैं तथा शेष अन्‍य अज्ञानी हैं अत: अब सुभाषित का अंग-प्रत्‍यंग जीर्ण हो चला है ।


छन्‍द: - अनुष्‍टुप


हिन्‍दी छन्‍दानुवाद -
जानकार ईर्ष्‍यालु हैं दम्‍भी सबल महान ।
शेष ज्ञान से हीन अब जीर्ण सुभाषित जान ।।


इति

नीतिशतकम् - मंगलाचरणम् ।।

चित्र
सम्‍प्रति आरभ्‍यते नीतिशतकमस्‍माभि: । सुभाषितग्रन्‍थेषु अन्‍यतम: ग्रन्‍थ: अयं प्रशिक्षित-स्‍नातक-परीक्षायाम् पाठ्यक्रमे निबद्ध: विद्यते अतएव अत्र एतस्‍य ग्रन्‍थस्‍य सर्वेषां मन्‍त्राणां प्रकाशनं सार्थ करिष्‍यते ।

मंगलाचरणम् 

दिक्‍कालाद्यनवच्छिन्‍नानन्‍तचिन्‍मात्रमूर्तये । 
स्‍वानुभूत्‍येकमानाय नम: शान्‍ताय तेजसे ।।1

शब्‍दार्थ -

सरलार्थ: - प्राच्‍यादिदिशाभि:, कालै: च यस्‍य मापनं नैव शक्‍यं विद्यते, य: अन्‍त‍रहित: अस्ति, य: परमज्ञानस्‍वरूपम्, केवलं अनुभवेन एव ज्ञातुं शक्‍य: अस्ति, य: शान्तिस्‍वरूपम्, ज्‍योतिस्‍वरूपम् च अस्ति तस्‍मै परमात्‍मने नमस्‍कृयते ।

छन्‍द: - अनुष्‍टुप छन्‍द:
छन्‍दलक्षणम् - पंचमं लघु सर्वत्र, सप्‍तमं द्विचतुर्थयो: । षष्‍ठं गुरु विजानीयादेतत्‍पद्यस्‍य लक्षणम् ।

हिन्‍दी - दिशाओं और कालों से अपरिमित (मापा न जा सकने वाले), अनन्‍त तथा चैतन्‍यस्‍वरूप वाले, केवल व्‍यक्तिगत अनुभवों से जाने जा सकने वाले, शान्ति और ज्‍योति स्‍वरूप उस परब्रह्म को प्रणाम है ।

काव्‍यनुवाद - 
दिशा काल से अपरिमित अविनाशी जगदीश । 
शान्‍त !, तेज !, अनुभूतिगत ब्रह्म ! दास नतशीश ।।

इति

अष्‍टादश उपपुराणानि ।।

चित्र
अष्‍टादश उपपुराणानां नामानि अधोलिखितानि सन्ति । -

1- सनत्‍कुमार
2- नारसिंह
3- स्‍कन्‍द
4- शिवधर्म
5- आश्‍चर्य
6- नारदीय
7- कापिल
8- वामन
9- औशनस
10- ब्रह्माण्‍ड
11- वारुण
12- कालिका
13- माहेश्‍वर
14- साम्‍ब
15- सौर
16- पराशर
17- मारीच
18- भार्गव

एतेषामतिरिक्‍तमपि अष्‍टादशोपपुराणानां क्रम: प्राप्‍यते तत्तु पूर्वमेव प्रकाशितमत्रास्ति अत: तस्‍य पुनराख्‍यानस्‍यावश्‍यकता न दृष्‍यते ।

हिन्‍दी - उपयुक्‍त के अतिरिक्‍त अठारह उपपुराणों का एक अन्‍य क्रम भी प्राप्‍त होता है जो कि यहाँ पहले ही प्रकाशित किया जा चुका है । अत: उसकी पुनरुक्ति की आवश्‍यकता नहीं दिखाई देती है।



इति