संदेश

February, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

प्रसह्य मणिमुद्धरेन्‍मकरवक्‍त्रदन्‍ष्‍ट्रान्‍तरात् .... नीतिशतकम् ।

चित्र
प्रसह्य मणिमुद्धरेन्‍मकरवक्‍त्रदन्‍ष्‍ट्रान्‍तरात् । 
समुद्रमपि संतरेत् प्रचलदूर्मिमाला  कुलम् ।
भुजंगमपि कोपितं शिरसि पुष्‍पवद्धारयेत् । 
न तु प्रतिनिविष्‍टमूर्खजन चित्‍तमाराधयेत् ।।4।। 

व्‍याख्‍या - कदाचित् मकरमुखात् कश्चित् बलपूर्वकं मणिनिष्‍कासनं कुर्यात् , कदाचित् महोर्मिमालायुक्‍तं समुद्रम् अपि कश्चित् सरलतया प्‍लवेत्, कदाचित् रुष्‍टं महाविषधरमपि स्‍वशिरसि पुष्‍पवत् धारयेत् किन्‍तु दुराग्रही-मूर्खस्‍य चित्‍तप्रसाद: कदाचिदपि न सम्‍भाव्‍यते ।

हिन्‍दी - सम्‍भव है मगरमच्‍छ के दातों के मध्‍य फंसे हुए मणि को बलपूर्वक निकाला जा सके, महातरंगों से युक्‍त समुद्र को भी तैर कर पार किया जा सके तथा क्रोधित हुए महाविषधारी नाग को भी सिर पर पुष्‍प की भाँति धारण किया जा सके  किन्‍तु किसी हठी, दुराग्रही-मूर्ख व्‍यक्ति को समझा सकना सर्वथा असम्‍भव है ।

छन्‍द: - पृथ्‍वी छन्‍द
छन्‍दलक्षणम् - जसौ जसयलावसुग्रहयतिश्‍चपृथ्‍वीगुरु: ।

हिन्‍दी छन्‍दानुवाद - 
सम्‍भव है कभी कोई मकर के मुख मध्‍य फंसी मणि को भी हाथ डाल के निकाल ले ।
बादलों को छूती हुई लहरों के बीच जाके उदधि में डूबे नहीं आप को सम्‍हाल ले ।
क्रोध से हों …

अज्ञ: सुखमाराध्‍य: ... नीतिशतकम् ।।

चित्र
अज्ञ: सुखमाराध्‍य: सुखतरमाराध्‍यते विशेषज्ञ:। 
ज्ञानलवदुर्विदग्‍धं ब्रह्मापि तं नरं न रंजयति ।।3।।

भावार्थ: -अल्‍पज्ञ: (मूर्ख:) सुखेन बोधितुं शक्‍य: । ततोपि अधिकं सारल्‍येन कस्‍मैचित् विदुषं बोधितुं शक्‍यते । किन्‍तु यस्‍य अल्‍पज्ञानमस्ति किन्‍तु ज्ञानाभिमानम् अधिकं वर्तते तस्‍मै तु ब्रह्मा अपि तोषितुं नैव शक्‍नोति ।

हिन्‍दी - मूर्ख को सरलता पूर्वक समझाया जा सकता है । विद्वान को उससे भी अधिक सरलता से समझाया जा सकता है किन्‍तु जिस अल्‍पज्ञानी को अपने ज्ञान का मिथ्‍या अभिमान हो उसे तो ब्रह्मा भी समझा नहीं सकते ।

छन्‍द: -आर्या
छन्‍द-लक्षणम् - 
यस्‍या: पादे प्रथमे क्षदशमात्रास्‍तथा तृतीये पि ।
अष्‍टादश द्वितीये चतुर्थके पंचदश सा  र्या ।।

हिन्‍दी छन्‍दानुवाद - 
अज्ञानी या विज्ञ को समझाना आसान ।
ब्रह्मा क्‍या समझा सकें जिनकाे ओछा ज्ञान ।।

इति