संदेश

March, 2017 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

स्‍वायत्‍तमेकान्‍तगुणं विधात्रा .... नीतिशतकम् ।।

चित्र
स्‍वायत्‍तमेकान्‍तगुणं विधात्रा 
विनिर्मितं छादनमज्ञताया: ।
विशेषत: सर्वविदां समाजे 
विभूषणं मौनमपण्डितानाम् ।। 7

व्‍याख्‍या -
अज्ञताया: छादनाय  स्‍वेच्‍छया एकान्‍तं (मौनत्‍वं) विधात्रा निर्मितं गुणविशिष्‍टमेवास्ति । विशेषरूपेण विदुषां समाजे मौनं मूर्खाणाम् आभूषणमिव अस्ति । इत्‍युक्‍ते सर्वविदां समाजे मूर्ख: केवलं मौनेन एव आत्‍मगौरवं रक्षितुं शक्‍नोति अन्‍यविधया तु कदापि नैवेति ।

हिन्‍दी -
अज्ञान के आवरण स्‍वरूप विधाता ने स्‍वेच्‍छा से मौन रहने का एक विशेष गुण बनाया है । विशेषत: विद्वानों की सभा में मूर्खों के लिये मौन आभूषण के समान है अर्थात् विद्वानों की सभा में मौन ही मूर्खों का आभूषण है ।

छन्‍द - उपजाति छन्‍द: ।
छन्‍दलक्षणम् - इत्‍थं किलान्‍यास्‍वपि मिश्रितासु वदन्ति जातिष्विदमेव नाम ।

हिन्‍दी छन्‍दानुवाद - 
मौन रूपी चादर निर्माण किया विधि ने मूर्खों के हित ।
अज्ञता को ढंक लेती जो मुखर न होने दे किंचित् ।
कभी जो बैठें विदुष समाज, प्रकट न होने दे अज्ञान ।
अहो मूर्खों के हेतु सदैव मौन भी आभूषण ही जान ।।

इति

व्‍यालं बालमृणालतन्‍तुभिरसौ .... नीतिशतकम् ।।

चित्र
व्‍यालं बालमृणालतन्‍तुभिरसौ रोद्धुं समज्‍जृम्‍भते । 
छेत्‍तुं वज्रमणिं शिरीषकुसुमप्रान्‍तेन सन्‍नह्यति । 
माधुर्यं मधुबिन्‍दुना रचयितुं क्षाराम्‍बुधेरीहते । 
नेतुं वांछति य: खलान्‍पथि सतां सूक्‍तै: सुधास्‍यन्दिभि: ।।


व्‍याख्‍या - 
य: जन: सुभाषितसूक्‍तै: कंचित् दुर्जनं सन्‍मार्गे आनेतुमिच्‍छति मन्‍ये स: कमलपुष्‍पस्‍य कोमलनलिकया मत्‍तगजस्‍य बन्‍धनं कर्तुमिच्‍छति, शिरीषपुष्‍पस्‍य प्रान्‍तभागेन हीरकं (मणिं वा) कर्तितुं चेष्‍टते, एकेन मधुबिन्‍दुना एव सम्‍पूर्णं महासागरजलं मधुरं कर्तुं व्‍यवस्‍यति । इति

हिन्‍दी - 
जो व्‍यक्ति सुन्‍दर सुभाषित सूक्तियों से किसी दुष्‍ट व्‍यक्ति का मार्ग परिवर्तन करना चाहता है मानो वह मदमत्‍त हाथी की गति को कोमल कमल नाल से बाधित करना चाहता है, शिरीष के कोमल पुष्‍प के किनारे से वज्र की भांति कठोर हीरे को काटना चाहता है, तथा मधु की एक ही बूंद से मानो पूरे महासागर के खारे जल को मीठा बना देना चाहता है ।

छन्‍द: - शार्दूलविक्रीडित छन्‍द
छन्‍दलक्षणम् -
सूर्याश्‍वैर्यदि म: सजौ सततगा: शार्दूलविक्रीडितम् ।।

हिन्‍दी छन्‍दानुवाद - 

चाहता प्रमत्‍त महागज की गति कमलनाल से बांट सक…

लभेत् सिकतासु तैलमपि .... - नीतिशतकम् ।।

चित्र
लभेत् सिकतासु तैलमपि यत्‍नत: पीडयन् । 
पिबेच्‍च मृगतृष्णिकासु सलिलं पिपासार्दित: । 
कदाचिदपि पर्यटन् शशविषाणमासादयेत् । 
न तु प्रतिनिविष्‍टमूर्खजनचित्‍तमाराधयेत् ।।5।।

व्‍याख्‍या -
यदि प्रयत्‍नेन पीड्यते चेत् कदाचित् बालुकया अपि तैलम् निर्गच्‍छेत् । कदाचित् कश्चित् मृगतृष्‍णया अपि जलं पातुं समर्थ: भवेत् । कदाचित् अटनं कुर्वन् शशकस्‍य अपि विषाणं दृष्‍येत् किन्‍तु दुराग्रही-मूर्खजनस्‍य चित्‍तप्रसादनं (चित्‍तस्‍य प्रसन्‍नता) कदापि, कथमपि सम्‍भवं नास्ति ।

हिन्‍दी -
यदि प्रयत्‍नपूर्वक पेराई की जाए तो सम्‍भव है बालू से भी तेल निकाला जा सके । यह भी सम्‍भव है कि मृगतृष्‍णा (तदाभाव में तदाभास अर्थात् जो नहीं है फिर भी दिखाई दे रहा हो जैसे गर्म सडक पर दूर से देखने पर जल का दिखाई देना) से भी कोई प्‍यासा व्‍यक्ति जल प्राप्‍त कर सके । कभी घूमते समय सम्‍भव है खरगोश के सिर पर भी सींग दिखाई दे जाए । किन्‍तु किसी भी भांति दुराग्रही मूर्ख व्‍यक्ति को समझा सकना (प्रसन्‍न कर सकना) सर्वथा असम्‍भव है ।

छन्‍द: - पृथ्‍वी छन्‍द
छन्‍दलक्षणम् - जसौ जसयलावसुग्रहयतिश्‍चपृथ्‍वीगुरु: ।

हिन्‍दी छन्‍दानुवाद - 
निकल सकता बालू…