यदा किंचिज्‍ज्ञोSहंद्विप इव मदान्‍ध: समभवम् - नीतिशतकम् ।।



यदा किंचिज्‍ज्ञोSहंद्विप इव मदान्‍ध: समभवं 
तदासर्वज्ञोSस्‍मीत्‍यभवदवलिप्‍तं मम मन: ।
यदा किंचित्‍किंचिद्बुधजनसकाशादवगतं 
तदा मूर्खोSस्‍मीति ज्‍वर इव मदो मे व्‍यपगत:  ।। 8
 
व्‍याख्‍या -
यदा अहं अल्‍पज्ञ: आसम् तदा गज इव मदान्‍ध: आसम् यत् मत्‍सदृशं नास्ति अस्‍यां पृथिव्‍यां विद्वान् कश्चित् । किन्‍तु यदा विदुषां सम्‍पर्कं प्राप्‍य किंचित्-किंचित् ज्ञानं जातं तदा अवगमनमभवत् यत् अहं तु मूर्ख: एव अस्मि इति, पुनश्‍च मम अभिमानं ज्‍वर इव समाप्‍तमभवत् ।

 हिन्‍दी -
जब मैं अल्‍पज्ञ था तब हाथी की भांति मुझे अभिमान था, तब मैं ही सर्वज्ञ हूँ ऐसा मेरा मन समझता था । जब मैं विद्वानों के सम्‍पर्क में रहकर कुछ-कुछ जानकार हुआ तब मुझे यह ज्ञात हुआ कि वस्‍तुत: मैं मूर्ख हूँ और मेरा अभिमान ज्‍वर की भांति उतर गया ।

छन्‍द - शिखरिणी छन्‍द: ।
छन्‍दलक्षणम् - रसे रुद्रैश्छिन्‍ना यमनसभलाग: शिखरिणी ।

हिन्‍दी छन्‍दानुवाद - 
गज के समान था मदान्‍ध लिये छुद्र-ज्ञान, सोंचा करता था कोई क्‍या मेरे समान है ।
मैं हूँ सर्वज्ञ, मुझको है सब कुछ ज्ञात, जितने भी नीति, वेद, शास्‍त्र व पुराण हैं ।
विदुषों की संगति में बैठ के जो सीखा कुछ तो पता चला कि अभी तुच्‍छ-लव-ज्ञान है ।
विज्ञ नहीं अज्ञ हूँ मैं इसकी प्र‍तीति हुई, ज्‍वर के समान दूर हुआ अभिमान है ।।

इति

टिप्पणियाँ

  1. अनुकरणीय सन्देश
    अर्थात् हमें अपनी ही बात नहीं ब्लकि दूसरों(ज्ञानियों) के विचारों से अवगत होकर ही अपने विचार रखने चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.com ईसंकेत पर भेजें ।

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

समासस्‍य भेदा: उदाहरणानि परिभाषा: च - Classification of Samas and its examples .

संस्‍कृतव्‍याकरणम् (समासप्रकरणम्)

फलानि ।।

अव्यय पदानि ।।