कृमिकुलचितं लालाक्लिन्‍नं ... नीतिशतकम् ।।


कृमिकुलचितं लालाक्लिन्‍नं विगन्धिजुगुप्सितम् 
निरुपमरसप्रीत्‍या खादन्‍नरास्थिनिरामिषम् ।
सुरपतिमपि श्‍वा पार्श्‍वस्‍थं विलोक्‍य न शंकते 
न हि गणयति क्षुद्रो जन्‍तु: परिग्रहफल्‍गुताम्  ।। 9

व्‍याख्‍या -
कीटै: पूरितं, मुखोदकमिश्रितं, दुर्गन्‍धपूर्णं, घृणास्‍पदं, मांसरिक्‍तमपि नर-अस्थिं प्राप्‍य श्‍वान: प्रेम्‍णा खादन् पार्श्‍वस्‍थम् इन्‍द्रमपि दृष्‍ट्वा न शंकयति, विभेति च ।
इत्‍युक्‍ते क्षुद्रजीवा: प्राप्‍तवस्‍तो: क्षुद्रतां, नि:सारतां च नैव गणयन्ति कदाचिदपि ।

 हिन्‍दी -
niti-shatak-niti-shlok

कीडों से  बिंधे हुए, लाल से सने हुए, दुर्गन्‍धपूर्ण, घृणायुक्‍त, मांसशून्‍य नर-अस्थि को बडे प्रेम से खाता हुआ कुत्‍ता अपने पास खडे इन्‍द्र को भी देखकर आशंकित अथवा भयभीत नहीं होता । क्‍यूँकि क्षुद्र प्राणी अपनी वस्‍तुओं की नि:सारता, नीरसता और तुच्‍छता पर तनिक भी ध्‍यान नहीं देते हैं ।

छन्‍द - हरिणी छन्‍द: ।
छन्‍दलक्षणम् - नसयरसलाग: षड्वेदैर्हयैर्हरिणीयता।

हिन्‍दी छन्‍दानुवाद - 
कीडों से सने हुए दुर्गन्‍धयुक्‍त, रक्‍त-मांस-हीन, घृणायुक्‍त अस्थि को चबाये जाता है
जिसमें न रस, न ही स्‍वाद, न क्षुधा की शान्ति, लार से सना हुआ उसे ही श्‍वान खाता है ।
पास जो खडा हो इन्‍द्र तो भी न बिलोके डरे, अपना समग्र ध्‍यान उसी में लगाता है
सत्‍य ही है तुच्‍छ नित्‍य ग्रहण किये की छुद्रता का ध्‍यान त्‍याग मन भोग में रमाता है ।।

इति

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गम् (जाना) धातु: - परस्‍मैपदी

दृश् (पश्य्) (देखना) धातुः – परस्मैपदी

अव्यय पदानि ।।

शरीरस्‍य अंगानि

क्रीड् (खेलना) धातु: - परस्‍मैपदी