यत्ननिरूपणम् ।।

आभ्यन्तरबाह्ययत्नौ


यत्नो द्विधा – आभ्यन्तरो बाह्यश्च
यत्न (प्रयत्न) दो प्रकार के होते हैं ।
१. आभ्यन्तर यत्न
२. बाह्य यत्न

वर्णो के उच्चारण में कुछ चेष्टा करनी पड़ती है‚ इसे ही यत्न कहते हैं । यह दो प्रकार का होता है‚ एक वर्णोच्चारण के पूर्व किया गया यत्न‚ दूसरा वर्णोच्चारण के समय किया गया यत्न । इनमें पहला आभ्यन्तर तथा दूसरा बाह्य यत्न कहलाता है ।

विशेष – आभ्यन्तर यत्न केवल उच्चारण करने वाला ही अनुभव कर सकता है‚ जबकि बाह्य यत्न सुनने वाला भी अनुभव कर सकता है ।

आभ्यन्तर यत्न – वर्णों के उच्चारण के ठीक पहले मुख के अन्दर किया गया यत्न आभ्यन्तर यत्न कहलाता है ।

इसके पाँच भेद हैं –
१. स्पृष्ट यत्न (स्पर्श वर्णों का)
२. ईषत्स्पृष्ट (अन्तस्थ वर्णों का)
३. ईषद्विवृत (ऊष्म वर्णों का)
४. विवृत (सभी स्वरों का)
५. संवृत (मात्र ह्रस्व अ का) ।

अवधेय – ह्रस्व अ वर्ण का उच्चारण के समय संवृत आभ्यन्तर प्रयत्न होता है किन्तु प्रयोग में अथवा लेखन आदि की दशा में ह्रस्व अ वर्ण का भी विवृत प्रयत्न ही होता है । यदि ऐसा न हो तो अकः सवर्णे दीर्घः  सूत्र ठीक से लागू नहीं हो सकेगा ।

बाह्य यत्न –
वर्णोच्चारण के समय अर्थात् मुख से वर्ण निकलते समय किया गया यत्न ।

इसके ग्यारह भेद हैं –
१. विवार २. श्वास ३. अघोष – (खर् वर्णों का)
४. संवार ५. नाद ६. घोष – (हश् वर्णों का)
७. अल्पप्राण – (सभी वर्गों का पहला‚ तीसरा व पाँचवां वर्ण तथा अन्तस्थ)
८. महाप्राण – (सभी वर्गों का दूसरा व चौथा वर्ण तथा ऊष्म)
९. उदात्त १०. अनुदात्त ११. स्वरित – (सभी स्वर वर्णों का)

खर् वर्ण – क ख च छ ट ठ त थ प फ श ष स
हश् वर्ण –  ग घ ङ ज झ ञ ड ढ ण द ध न ब भ म य र ल व ह
वर्गों का पहला‚ तीसरा व पांचवां वर्ण – क ग ङ च ज ञ ट ड ण त द न प ब म
अन्तस्थ वर्ण – य र ल व
वर्गों का दूसरा व चौथा वर्ण – ख घ छ झ ठ ढ थ ध फ भ
ऊष्म वर्ण – श ष स ह



इति

टिप्पणियाँ

  1. Very nice information, thanks to share. I also want to share some info regarding Dr Ramesh Mishra who is one of the best and highly motivated Sanskrit and Hindi Teacher who provides Hindi & Sanskrit Home Tutor in Delhi NCR to students for promoting Sanskrit and Hindi Language. For more details, you can also visit: http://www.hindisanskrittutor.in/

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

अपने सुझाव, समाधान, प्रश्‍न अथवा टिप्‍पणी pramukh@sanskritjagat.in ईसंकेत पर भेजें ।