मित्राणि
राष्ट्रियसंस्‍कृतसंस्‍थानेन प्रकाशितचलचित्रेषु प्रशिक्षणकक्ष्‍याया: एतत् चतुर्दशमं चलचित्रम् अस्ति ।  दृष्‍ट्वा अभ्‍यासं कुर्वन्‍तु  ।  पश्‍यन्‍तु, पठन्‍तु, संस्‍कृतज्ञा: भवन्‍तु च ।
 

संस्‍कृतजगत्



1 टिप्पणियाँ

  1. Sunder Ati Sunder .

    जैसे आंख में मोतियाबिंद हो जाता है या नज़र कमज़ोर हो जाती है ऐसे ही अक्ल भी अंधी और कमज़ोर हो जाया करती है और तब अक्ल सही फ़ैसले नहीं ले पाती। आज ऐसी अक्ल के लोग ही हर जगह नेता और मार्गदर्शक बने हुए हैं।
    ‘ब्लॉगर्स मीट वीकली 3‘

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने