नारायणं नमस्कृत्य नरं चैव नरोत्तमम् ।
देवीं सरस्वतीं व्यासं ततो जयमुदीरयेत् ।।

1 टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

और नया पुराने