March, 2016 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पंचमी विभक्ति : (अपादान कारकम्) - सम्‍पूर्णम् ।।

पंचमी विभक्‍ते: - अपादान कारकम् (पंचमी विभक्ति:) ।। दूरान्तिकार्थे…

पंचमी विभक्‍ते: - अपादान कारकम् (पंचमी विभक्ति:) ।।

सूत्रम् - पंचमी विभक्‍ते: ।। ईयसुन अथवा तरप् प्रत्‍ययान्‍तविशेषणेन अथ…

दूरान्तिकार्थेभ्‍यो द्वितीया च - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

सूत्रम् - दूरान्तिकार्थेभ्‍यो द्वितीया च ।।2/3/35।। दूरं समीपं च अर्थ…

करणेचस्‍तोकाल्‍पकृच्‍ .... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

सूत्रम् - करणेचस्‍तोकाल्‍पकृच्‍छ्र-कतिपयस्‍यासत्‍ववचनस्‍य।। 2/3/33 ।। …

पृथग्विनानानाभि:.... पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

सूत्रम्- पृथग्विनानानाभिस्‍तृतीयाSन्‍यतरस्‍याम्।। 2/3/32 पृथक्, विना,…

विभाषा गुणेSस्त्रियाम् - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

सूत्रम् - विभाषा गुणेSस्त्रियाम् ।। य: गुणवाचक: शब्‍द: हेतुरपि (कारण…

अकर्तर्यृणे .... पंचमीविभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।

सूत्रम् - अकर्तर्यृणे पंचमी ।।2-3-24।। ऋणात्‍मकशब्‍द: यदा स्‍वयं कर्त…

प्रतिनिधि प्रतिदान..... पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्)

सूत्रम् - प्रति:प्रतिनिधिप्रतिदानयो:।।(1-4-12) प्रतिनिधि, प्रतिदान (ब…

कर्मप्रवचनीयसंज्ञा - पंचमी विभक्ति: (अपादानकारकम्) ।।

सूत्रम् - आड्. मर्यादावचने ।। (1/04/89) मर्यादा (सीमा) अर्थे आड्. (आ) इ…

अपपरी वर्जने - पंचमी विभक्ति: (अपादान कारकम्) ।।

सूत्रम् - अपपरी वर्जने ।। वर्जन (छोडना, अतिरिक्‍त) अर्थेषु अप, परि च …

ज़्यादा पोस्ट लोड करें कोई परिणाम नहीं मिला